सुखी गृहस्थ जीवन के लिए मनस्थिति भी सही हो

सुखी गृहस्थ जीवन के लिए केवल यही पर्याप्त नहीं कि आपकी आर्थिक स्थिति ठीक हो अपितु यह भी आवश्यक है कि आपकी मनस्थिति भी ठीक हो। जिंदगी में खुशियाँ आपके पास पैसा कितना है इस बात पर कम व आपके पास पैशन कितना है इस बात पर ज्यादा निर्भर करती है। महत्वपूर्ण यह नहीं कि आपके पास बैंक बैलेंस कितना है ? अपितु यह है कि आपके पास ब्रेन बैलेंस कितना है। संपत्ति के अभाव में तो समझ से भी गृहस्थी चल जाती है मगर समझ के अभाव में केवल संपत्ति से जिंदगी चलना संभव ही नहीं है।
अत: आपके प्रयत्न केवल आर्थिक स्थिति मजबूत करने के लिए ना हों अपितु मनस्थिति मजबूत करने के लिए भी हों ताकि एक खुशहाल गृहस्थ जीवन का निर्वाहन किया जा सकेे

— भरत मल्होत्रा