चुनावे क्षेत्र अपने-अपने

एक वक्त पे उड़ाया था कीचड़ मैंने भी,
तुमने भी मुझपर गिराया था बहुत सारा।
आज राहे मुहब्बत क़दम बढ़ाया मैंने भी,
तूनें भी हांथ मिलाया हमसे बनके हमारा।

धोखा दें कौम को चलो हम अपने-अपने,
तोडें हम, हमसे पाले जो सपने अपने,
स्वार्थ सिद्धि में झूठें चलो बन जाएं हम,
फिर लड़ेगे तुमसे, चुनावे क्षेत्र अपने-अपने।।

।। प्रदीप कुमार तिवारी।।
करौंदी कला, सुलतानपुर
7978869045

परिचय - प्रदीप कुमार तिवारी

जन्म वर्ष . - 1989 निवास स्थान. - करौंदी कला, शुकुलपुर, सुलतानपुर, उत्तर प्रदेश। माता /पिता. - आशा देवी /दिनेश कुमार तिवारी। शिक्षा. - स्नातकोत्तर संस्कृत विषय से। कविता लिखने का शौक बचपन से ही है, अपने स्वतंत्र बिचारों को कविता के रूप में लिखना मुझे अत्यंत प्रिय है।