Monthly Archives: January 2018

  • आस्तिक व नास्तिक कौन?

    ओ३म् दो शब्द आस्तिक व नास्तिक का बहुधा प्रयोग होता है। मोटे रूप से आस्तिक ईश्वर के अस्तित्व में विश्वास रखने वालों को कहते हैं और नास्तिक उन लोगों को कहते हैं जो ईश्वर के अस्तित्व...


  • खेल-खेल में

    खेल-खेल में

    खेल-खेल में सीख सकें हम गाना और बजाना, खेल-खेल में सीख सकें हम हंसना और मुस्काना, खेल-खेल में जाना हमने खेल ही से जीवन है, खेल-खेल में सीखा हमने मेल से अपनापन है.   खेल-खेल में...

  • “पिरामिड”

    “पिरामिड”

    ये झंडा तिरंगा माँ भारती करूँ आरती नमन वंदन भाल भाल चंदन।।-1 रे वीरा त्रैरंगा नभ छाया गर्वित शाया अंग रंग चक्र हरा केशरी शुभ्र।।-2 महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी


  • हाथी और दर्जी

    हाथी और दर्जी

    एक था दर्जी, एक था हाथी, दोनों ही थे पक्के साथी, दर्जी करता खूब सिलाई, हाथी खाता खूब मिठाई. हाथी आकर रोज रात को, कहता- ”दर्जी भाई नमस्ते”, दर्जी देता रोटी उसको, आपस में वो कभी...



  • ।। अच्छे दिन ।।

    ।। अच्छे दिन ।।

    कहते थे बनवाएगें पर राम मन्दिर अभी तक बना नहीं, अनुच्छेद 370 हटाएंगे पर अभी तक तो हटा नहीं। विदेशो में रखा धन लाएंगे पर काले धन का पता नहीं, छप्पन इंच का सीना है पर...

  • गीत : बेटा चन्दन नहीं रहा

    गीत : बेटा चन्दन नहीं रहा

    (कासगंज उ प्र में 26 जनवरी तिरंगा यात्रा में मुसलमानों द्वारा देश भक्त युवा चन्दन की गोली मारकर हत्या किए जाने पर सनातन समाज को चेताती नयी कविता) कोई हल्ला, कोई मातम, कोई क्रन्दन नहीं रहा...