सदाबहार काव्यालय-18

गीत

नए वर्ष का संदेशा

नई उमंगें नई तरंगें, वर्ष नया ले आया है
सभी सुखी हों सब सम्पन्न हों, यह संदेशा लाया है-

 

नए वर्ष में नई पहल हो, जीवन सुगम-सरल अपना
अनसुलझी जो रही पहेली, वह सुलझे न रहे सपना
प्यारे-प्यारे सपन सलोने वर्ष नया ले आया है
सभी सुखी हों सब सम्पन्न हों, यह संदेशा लाया है-

नए वर्ष का उगता सूरज, रंग नए ले आया है
सजें सलीके से सब रिश्ते, ढंग नए ले आया है
नवल हर्ष उत्कर्ष नवल संग वर्ष नया ले आया है
सभी सुखी हों सब सम्पन्न हों, यह संदेशा लाया है-

जो बीता उसे जानें दें हम, नए वक्त के साथ चलें
बीते समय से सबक सीखकर, साथ समय के हम बदलें
आनंद की नवरंग हिलोरें, वर्ष नया ले आया है
सभी सुखी हों सब सम्पन्न हों, यह संदेशा लाया है-

 

नई उमंगें नई तरंगें, वर्ष नया ले आया है
सभी सुखी हों सब सम्पन्न हों, यह संदेशा लाया है.

 

लीला तिवानी

 

Website : https://readerblogs.navbharattimes.indiatimes.com/rasleela/

 

प्रिय पाठकगण, जैसा कि आप जानते हैं, आजकल ब्लॉग्स में कामेंट्स पब्लिश होने में दिक्कत आ रही है, अगर इस ब्लॉग में कामेंट्स नहीं आ रहे हैं. तो सदाबहार काव्यालय-16 ब्लॉग में कामेंट्स आ रहे हैं, उसी में अपनी प्रतिक्रियाएं भेजने का कष्ट करें, ताकि हम आपके विचारों से अवगत हो सकें. अपनी काव्य-रचनाएं अवश्य भेजिएगा. हम उन सभी कवियों के अत्यंत आभारी हैं, जो सदाबहार काव्यालय के लिए अपनी काव्य-रचनाएं प्रेषित कर रहे हैं. आप एक से अधिक काव्य-रचनाएं भी भेज सकते हैं, लिखते रहिए, इस पते पर भेजते रहिए.

tewani30@yahoo.co.in

परिचय - लीला तिवानी

लेखक/रचनाकार: लीला तिवानी। शिक्षा हिंदी में एम.ए., एम.एड.। कई वर्षों से हिंदी अध्यापन के पश्चात रिटायर्ड। दिल्ली राज्य स्तर पर तथा राष्ट्रीय स्तर पर दो शोधपत्र पुरस्कृत। हिंदी-सिंधी भाषा में पुस्तकें प्रकाशित। अनेक पत्र-पत्रिकाओं में नियमित रूप से रचनाएं प्रकाशित होती रहती हैं।