आखिर क्यों अस्मिता उतरवाई गई,,,,,,,,,

लुढ़क गई या ये यहां लुढ़कायी गई
क्यों नारी गंदे धंधों में बहाई गई

जानना चाहता है समाज आज कि
क्या जानबूझकर ये गंदगी फैलाई गई

हो सकता है , हों दोषी कुछ रसूखदार
जो मोहब्बत की जाल में फंसायी गई

पूरी दुनिया हो गई वह कोठा इनका
जिनमें इनकी अस्मिता उतरवाई गई

क्या मिली इमदाद सभ्य समाज से
जो किसी तरह दलदल से बचाई गयीं

शर्म करो गुनाहगिरो अब तो शर्म करो
आबरू की इनसे ही कीमत गिनाई गई

आखिर क्या मजबूरी थी अबलाओं की
जो इनसे इनके घर वेश्यावृत्ति करवाई गई

संदीप चतुर्वेदी — अतर्रा बांदा (उत्तर प्रदेश )

परिचय - संदीप चतुर्वेदी "संघर्ष"

s/o श्री हरकिशोर चतुर्वेदी निवास -- मूसानगर अतर्रा - बांदा ( उत्तर प्रदेश ) कार्य -- एक प्राइवेट स्कूल संचालक ( s s कान्वेंट स्कूल ) विशेष -- आकाशवाणी छतरपुर में काव्य पाठ मो. 75665 01631