कलम

जब विचार कविता का आकार लेने लगते हैं,
तब कलम होकर पैनी, तलवार बनने लगती है
बगैर एक बूंद रक्त बहाये, अपना काम करने लगती है

जब जुल्म – सितम की आँधियां कहर ढाने लगती हैं,
तब किताबें ढ़ाल बनकर सुरक्षा देने लगती हैं
द्वार प्रगति के खोलकर,गुलामी की बेडियां तोडने लगती हैं

तुम पढ़ो तो सही क्रांति का इतिहास अमर,
निबलों-विकलों के अंदर भी वीरता जन्म लेने लगती है
कहानी शौर्यभरी खुद-ब-खुद बनने लगती है

सभ्यतायें जितनी भी हैं अगर अमर तो कलमों के बल से,
परिवर्तन लाती हैं कलमें, बस बिकें न सिक्कों की खनक में
जिंदा रखना ईमान, कहीं खो न जाना झूंठी सनक में

—  मुकेश कुमार ऋषि वर्मा

परिचय - मुकेश कुमार ऋषि वर्मा

नाम - मुकेश कुमार ऋषि वर्मा एम.ए., आई.डी.जी. बाॅम्बे सहित अन्य 5 प्रमाणपत्रीय कोर्स पत्रकारिता- आर्यावर्त केसरी, एकलव्य मानव संदेश सदस्य- मीडिया फोरम आॅफ इंडिया सहित 4 अन्य सामाजिक संगठनों में सदस्य अभिनय- कई क्षेत्रीय फिल्मों व अलबमों में प्रकाशन- दो लघु काव्य पुस्तिकायें व देशभर में हजारों रचनायें प्रकाशित मुख्य आजीविका- कृषि, मजदूरी, कम्यूनिकेशन शाॅप पता- गाँव रिहावली, फतेहाबाद, आगरा-283111