सदाबहार काव्यालय-31

http://champion4x4.com/?q=viagra-canada-purchase कविता

can u get free samples of viagra मैं पतंग बन जाऊं

 

http://chandaulisamachar.com/?q=viagra-UK-price मेरा मन है

order viagra in united states कि

http://chamleypipe.com/?q=online-pharmacy-viagra-viagra मैं पतंग बन जाऊं

source site मकर संक्रान्ति और पतंगोत्सव की

non medical use viagra पावन वेला पर

http://frasertech.co.uk/?q=do-i-need-prescription-for-viagra-in-uk सूर्यदेवता की साक्षी में

source link पतंग की तरह

नील गगन की नीलिमा में लहराऊं

मैं पतंग बनूं

शांति की

सौहार्द की

सद्भाव की

इंसानियत की

प्रेम की

निर्मल आनंद की

परोपकार की

अतिथि के सत्कार की

खुशियों के संचार की

महिलाओं के सम्मान की

देश की ऊंची-उज्जवल शान की

महंगाई के उपचार की

भ्रष्टाचार के संहार की

भेदभाव के उन्मूलन की

सत्पथ के दिग्दर्शन की

और

सब तक यह संदेश पहुंचाऊं

कि

कैसे मानव जीवन की लाज बचेगी

कैसे इंसान की इंसनियत ज़िंदा रहेगी

मेरा मन है

कि

मैं पतंग बन जाऊं

मकर संक्रान्ति और पतंगोत्सव की

पावन वेला पर

सूर्यदेवता की साक्षी में

पतंग की तरह

नील गगन की नीलिमा में लहराऊं.

 

लीला तिवानी

Website : https://readerblogs.navbharattimes.indiatimes.com/rasleela/

परिचय - लीला तिवानी

लेखक/रचनाकार: लीला तिवानी। शिक्षा हिंदी में एम.ए., एम.एड.। कई वर्षों से हिंदी अध्यापन के पश्चात रिटायर्ड। दिल्ली राज्य स्तर पर तथा राष्ट्रीय स्तर पर दो शोधपत्र पुरस्कृत। हिंदी-सिंधी भाषा में पुस्तकें प्रकाशित। अनेक पत्र-पत्रिकाओं में नियमित रूप से रचनाएं प्रकाशित होती रहती हैं।