जल्दी सोना जल्दी जगना

प्यारे चुन्न मुन्न जल्दी आओ, आकर जल्दी सो जाओ
निंदिया रानी तुम्हें बुलाए, सपनों में तुम खो जाओ-

जल्दी सोना जल्दी जगना, बात बहुत ही अच्छी है
जल्दी सोने वाला चुन्न मुन्न, पाता चिजी अच्छी है
सपनों की दुनिया से टॉफी बिस्कुट चमचम ले आओ
प्यारे चुन्न मुन्न जल्दी आओ, आकर जल्दी सो जाओ-

जल्दी सोने वाला बच्चा, राजकुंवर है कहलाता
दिदी का वो प्यारा भैया, राजा भैया कहलाता
पापा के प्यारे बन जाओ, ममी कहती आ जाओ
प्यारे चुन्न मुन्न जल्दी आओ, आकर जल्दी सो जाओ-

कुकड़ू कूं जब मुर्गा बोले, जल्दी से तुम जग जाओ
चूं-चूं-चूं जब चिड़िया बोले, फुर्ती से तुम उठ जाओ
अम्मी दुधू लेकर आई, जल्दी से तुम पी जाओ
प्यारे चुन्न मुन्न जल्दी आओ, आकर जल्दी सो जाओ-

परिचय - लीला तिवानी

लेखक/रचनाकार: लीला तिवानी। शिक्षा हिंदी में एम.ए., एम.एड.। कई वर्षों से हिंदी अध्यापन के पश्चात रिटायर्ड। दिल्ली राज्य स्तर पर तथा राष्ट्रीय स्तर पर दो शोधपत्र पुरस्कृत। हिंदी-सिंधी भाषा में पुस्तकें प्रकाशित। अनेक पत्र-पत्रिकाओं में नियमित रूप से रचनाएं प्रकाशित होती रहती हैं।