कविता

समकालीन कविताएँ

(1) क्षुधा
——-
जो कभी
भूखा न रहा
वह क्या जाने
ऐंठती आँतों का दर्द
बंद होती
आँखों का अंधेरा
और
क़दमों की
लड़खड़ाहट
…और वैसे भी
वातानुकूलित में बैठकर
क्षुधा का अर्थ
नहीं समझा
जा सकता !

(2) कोरा कागज़
——————-
काश
मेरी ज़िन्दगी
कोरा कागज़
होकर ही रह जाती
तो कितना
अच्छा होता
स्याही फैलने
आड़ी-तिरछी
लकीरें खिंचने
और निरर्थक
शब्दों का अंकन
होने से तो कहीं
बेहतर है
कोरा ही रह जाना!

(3) जुगनू
———-
माना कि तुम्हें
ज़रूरत है
सूरज की
उन्हें भी
और मुझे भी
पर
सूरज की आस में
ठुकरा देना
हाथ आये
जुगनू को
नहीं है
मूर्खता के सिवाय
कुछ और !
—  प्रो. शरद नारायण खरे 

परिचय - प्रो. शरद नारायण खरे

प्राध्यापक व अध्यक्ष इतिहास विभाग शासकीय जे.एम.सी. महिला महाविद्यालय मंडला (म.प्र.)-481661 (मो. 9435484382 / 7049456500) ई-मेल-khare.sharadnarayan@gmail.com

Leave a Reply