कविता

नव वर्ष।

सृष्टि का आरंभ हुआ था
मानव का अवतार हुआ था
चैत्र महीना शुक्ल पक्ष का
नव वर्ष का शुरुआत हुआ था।

ग्रह नक्षत्र सम्बन्ध हुआ था
मास हिंदी शुरुआत हुआ था
प्रकृति में बदलाव लिये
नव वर्ष का शुरुआत हुआ था।

पेड़ पौधे फल फूल खिला था
मंजर कली प्रादुर्भाव हुआ था
वातावरण में उल्लास लिए
नव वर्ष का शुरुआत हुआ था।

सृष्टि का निर्माण हुआ था
विष्णु का अवतार हुआ था
नवरात्र आगमन से
नव वर्ष का शुरुआत हुआ था।

पुरुष प्रकृति मिलाप हुआ था
वैकुंठ में नारायण वास हुआ था
सृष्टि में महक लिये
नव वर्ष का शुरुआत हुआ था।

रचनाकार- रंजन कुमार प्रसाद
(माध्यमिक शिक्षक)
उत्क्रमित हाइस्कूल तोरनी ,करगहर, रोहतास,

परिचय - रंजन कुमार प्रसाद

माध्यमिक शिक्षक उत्क्रमित हाइस्कूल तोरनी,करगहर,रोहतास, बिहार, पता- ग्राम-सकरी,पोस्ट-कुदरा, जिला-कैमूर(भभुआ) बिहार, दूरभाष-9931580972 , ranjangupta9931@gmail.com

Leave a Reply