गज़ल

इस दुनिया के लोगों को ये क्या हुआ
यहां हर कोई है गम का मारा हुआ
=======================

हर आँख अश्कों से है तरबतर
हर दामन लहू में है भीगा हुआ
=======================

कौन देखे-सुने हाल मुफलिस का अब
बहरा हाकिम, कानून अँधा हुआ
=======================

कैसे उल्टी तरफ गंगा बहने लगी
सच फटेहाल है, झूठ राजा हुआ
=======================

अँधेर नगरी है, चौपट है राजा
टके सेर भाजी और खाजा हुआ
=======================

सबसे कह दो करे न कोई शोर-ओ-गुल
उठ न जाए कहीं देश सोया हुआ
=======================

आभार सहित :- भरत मल्होत्रा।