गज़ल

बुरा औरों का जो करता नहीं है
शर्म से उसका सर झुकता नहीं है
======================

कभी भी आज़मा लो जब जी चाहे
सच्चा आदमी डरता नहीं है
======================

दुनिया भर की दौलत मिल भी जाए
पेट लालच का पर भरता नहीं है
======================

नहीं बन पाएगा कुंदन कभी वो
जो अपनी आग में जलता नहीं है
======================

कहते हैं पते की बात लेकिन
बुज़ुर्गों की कोई सुनता नहीं है
======================

वफा रखो तुम अपनी पास अपने
ये सिक्का अब यहां चलता नही है
======================

आभार सहित :- भरत मल्होत्रा।