फ़ोटो फ्रेम

यूँ तो दोस्त ही था वो मेरा
मगर वो था बिल्कुल फोटोफ्रेम
मैं कहती थी, कहती ही रहती थी
उसका कोई जवाब न मिलता था
मगर दीवानापन देखो मेरा
सारा दिन मैं उसमें ही खोई रहती थी
अपना हंसी-आँसू उससे ही बांटा करती थी
कभी कुछ कह कर दिल भी
तो नही दुखाता था वो मेरा
बस यूँ ही प्यार से मुस्काया करता था
उसकी मुस्कान की भाषा मैं पढ़ती
अपने आँसू पोंछ, हिम्मत से आगे बढ़ती थी
अपनी खुशियां भी तो,उसकी इसी
मुस्कान के संग बाँटा करती थी…
यूँ तो दोस्त ही थी वो मेरा
मगर वो था बिल्कुल फोटोफ्रेम…
सुमन

परिचय - सुमन राकेश शाह 'रूहानी'

मैं राजस्थान जिला पाली से हूँ। मेरी उम्र 45 वर्ष है। शादी के पश्चात पिछले 25 वर्षों से मैं सूरत गुजरात मे रह रही हुँ । मैंने अजमेर यूनिवर्सिटी से 1993 में m. com किया था ।..2012 से यानि पिछले 6 वर्षों कवितायें के द्वारा अपने मन के विचारों को प्रस्तुत करने की कोशिश कर रही हुँ। मैं oil painting द्वारा भी अपने भावों को व्यक्त करने की कोशिश करती हूं पता- A29, घनश्याम बंगला, इन्द्रलोक काम्प्लेक्स, पिपलोद, सूरत 395007 मो- 9227935630