छंद

छंद कविता का अभिन्न अंग है, 
छंद से है कविता की शान,
सरस और प्राभावशाली हो,
गति और लय से बढ़ता मान.

जिन छंदों की गणना में हैं,
लेते वर्णों का आधार,
उनको वर्णिक छंद कहते हैं,
सम, अर्द्धसम, विषम प्रकार.

जिन छंदों की व्यवस्था का,
मात्राएं ही हों आधार,
उनको मात्रिक छंद कहते हैं,
सम, अर्द्धसम, विषम प्रकार.

चौपाई सम मात्रिक छंद है,
चार चरण सोलह मात्राएं,
अंत में जगण-तगण निषिद्ध हैं,
अंत में वर्ण गुरु ही आएं.

चार चरण चौबीस मात्राएं,
ग्यारह और तेरह पर यति हो,
दोहा अर्द्धसम मात्रिक छंद है,
सम चरणों में तुक मिलती हो.

चार चरण चौबीस मात्राएं,
तेरह और ग्यारह पर यति हो,
सोरठा अर्द्धसम मात्रिक छंद है,
विषम चरणों में तुक मिलती हो.

रोला सम मात्रिक छंद है,
चार चरण चौबीस मात्राएं,
ग्यारह और तेरह पर यति हो,
एक-दो, तीन-चार में तुक पाएं.

दोहा-रोला छंद जोड़कर,
कुण्डलिया की कर पहचान,
छः चरण चौबीस मात्राएं,
प्रथम-अंतिम शब्द समान.

सम मात्रिक छंद हरिगीतिका,
सोलह और बारह पर यति हो,
चरण परस्पर होते तुकांत हैं,
चरणांत में लघु-गुरु हो.

सवैया वर्णिक छंद कहाए, 
इक्कीस से छब्बीस तक वर्ण आएं,
चारों चरण की तुक मिलती हो,
सात सगण और दो गुरु आएं.

कवित्त मुक्तक वर्णिक छंद है,
चार चरण इक्कतीस मात्राएं,
सोलह और पंद्रह पर यति हो,
अंतिम वर्ण गुरु ही आएं.

छंद बिना कविता पंगु है,
कविता से है छंद की शान,
दोनों के संयोग से होता,
सरस मधुरता का रसपान.

 

पुनश्च-

वर्णिक छन्दों में वर्ण गणों के हिसाब से रखे जाते हैं. तीन वर्णों के समूह को गण कहते हैं. इन गणों के नाम हैं: यगण, मगण, तगण, रगण, जगण, भगण, नगण और सगण. अकेले लघु को ‘ल’ और गुरु को ‘ग’ कहते हैं. किस गण में लघु-गुरु का क्या क्रम है, यह जानने के लिए यह सूत्र याद कर लीजिए:

यमाताराजभानसलगा:

जिस गण को जानना हो उसका वर्ण इस में देखकर अगले दो वर्ण और साथ जोड़ लीजिए और उसी क्रम से गण की मात्राएँ लगाइए, जैसे:

यगण – यमाता = ।ऽऽ आदि लघु
मगण – मातारा = ऽऽऽ सर्वगुरु
तगण – ताराज = ऽऽ । अन्तलघु
रगण – राजभा = ऽ ।ऽ मध्यलघु
जगण – जभान = ।ऽ । मध्यगुरु
भगण – भानस = ऽ ॥ आदिगुरु
नगण – नसल = ॥ । सर्वलघु
सगण – सलगाः = ॥ऽ अन्तगुरु

परिचय - लीला तिवानी

लेखक/रचनाकार: लीला तिवानी। शिक्षा हिंदी में एम.ए., एम.एड.। कई वर्षों से हिंदी अध्यापन के पश्चात रिटायर्ड। दिल्ली राज्य स्तर पर तथा राष्ट्रीय स्तर पर दो शोधपत्र पुरस्कृत। हिंदी-सिंधी भाषा में पुस्तकें प्रकाशित। अनेक पत्र-पत्रिकाओं में नियमित रूप से रचनाएं प्रकाशित होती रहती हैं।