पर्यावऱण पर कुछ दोहे

आबादी के दंश से पर्यावरण खराब ।

आबादी को रोक के, धरा करेंगे साफ।1।

पेड़ों में ब्रम्हा ,विष्णु ,पेड़ो में श्रीराम।

वन बचाने खातिर अब,लाल करो कुछ काम।2।

जीव रहे तब तक जिंदा,जब तक इनमें जान।

लाल खातिर है पादप,जस मानों भगवान।3।

पेड़ पौधे मत काटो. ,इसे लगाना सीख ।

वरना सेहत ना रहे,मांगे मिले न भीख।4।

नेता भाषण रोज दे, पार्क में सरेआम।।

उसके जाते हो गया ,सारा काम तमाम।5।

तुलसी में विष्णु निवास,पीपल में श्रीकृष्ण।

बरगद में ब्रम्हा मिले, मिले आम से सीख।6।

गंगा तड़से मोक्ष को, बदला गजब रिवाज।

मानव अब तो सुधर जा,वरना गिरेगी गाज।7।

दो कदम हम चलें औऱ दो कदम चले आप।

तब जाके प्रदूषण का,मिटे धरा से छाप। 8।

—  लाल बिहारी लाल

परिचय - लाल बिहारी गुप्ता लाल

जन्म : 10 अक्टूबर 1974 जन्म स्थान : ग्राम+पो. श्रीरामपुर, भाया - भाथा सोनहो, जिला-सारण (छपरा), बिहार-841460 माता : (स्व.) मंगला देवी पिता : (स्व.) सत्य नरायण साह पत्नी : श्रीमती सोनू गुप्ता संतान : पुत्र ज्येष्ठ—रवि शंकर (11वीं अध्ययनरत); कनिष्ठ—कृपा शंकर (11वीं अध्ययनरत) शिक्षा : स्नातकोत्तर (एम.ए.)-हिन्दी सम्प्रति : वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय, उद्योग भवन, नई दिल्ली में कार्यरत संपादित कृतियाँ : 1. समय के हस्ताक्षर (2006) 2 लेखनी के लाल (2007) 3 माटी के रंग (2008) 4 धरती कहे पुकार के (2009) तथा कोलकाता से प्रकाशित हिन्दी साहित्यिक पत्रिका “साहित्य त्रिवेणी” के पर्यावरण विशेषांक का संपादन (2011) भाषा ज्ञान : हिन्दी, भोजपुरी एवं अंग्रेजी विशेष : हिन्दी एवं भोजपुरी की कविताएँ एवं गीत देश के विभिन्न साहित्यिक पत्र-पत्रिकाओं में छपती रहती हैं। लाल कला साहित्य एवं सामाजिक चेतना मंच (रजि.) बदरपुर, नई दिल्ली-110044 के संस्थापक सचिव। भोजपुरी गीतों का आडियो एवं वी.सी.डी. टी. सीरीज, एच. एम. वी., वीनस सहित देश की कई नामी-गिरामी कंपनियों से बाजार में हैं। संपर्क : 265 ए / 7, शक्ति विहार, बदरपुर, नई दिल्ली - 110044 फोन : 098968163073 // 07042663073 ई-मेल : lalbihari74@gmail.com, lalkalamunch@rediffmail.com