‘काव्या सतत साहित्य यात्रा’ समूह का कार्यक्रम

दिनाँक 4 मई, दिन शुक्रवार। संगीत नाट्य एकेडमी,गोमतीनगर के प्रांगण में लगे लखनऊ पुस्तक मेला में सायंकाल चार बजे ‘काव्या सतत साहित्य यात्रा’ समूह द्वारा आयोजित, लेखिका हुस्न तबस्सुम’निहां’ की पुस्तक ‘चाँद-ब-चाँद’ पर परिचर्चा में पूरा लखनऊ उमड़ आया।
       जिसकी अध्यक्षता प्रख्यात साहित्यकार श्री ओम नीरव जी कर रहे थे।विशिष्ट अतिथि सुश्री पूर्णिमा वर्मन जी, विशेष अतिथि श्री नरेंद्र भूषण जी थे।
    कार्यक्रम का शुभारंभ सभी को पुष्प गुच्छ भेंट करने के उपरांत मुकेश मिश्र की द्वारा वाणी वंदना से हुआ।आयोजिका निवेदिता श्रीवास्तव ने सभी का स्वागत करते हुए समूह में सम्पन्न पत्र लेखन कार्यक्रम के विजयी सदस्यों के नाम की घोषणा की।प्रथम पुरस्कार कोलकाता की निशा कोठारी, द्वितीय गाज़ियाबाद की प्रतिमा प्रधान जी,तृतीय आगरा की अनामिका सिंह को करतल ध्वनि के मध्य दिया गया।
        ततपश्चात परिचर्चा में क्रमशः रोली शंकर, लेखिका हुस्न तबस्सुम ‘निहां’, स्वधा पाण्डेय, ज्योत्स्ना सिंह,विपिन मलीहाबादी, शिवांश शुक्ला, नरेंद्र भूषण जी, अमिता सिंह, मंजुल मंज़र लखनवी, पूर्णिमा वर्मन जी, राखी अग्रवाल, ओम नीरव जी ने वक्तव्य दिया।
       पुस्तक सभी के द्वारा खूब सराही गयी।कविताएं समाज में व्याप्त अव्यवस्था को उद्घाटित करती हुई सी सभी।
   अंततः आभार ज्ञापन कर निवेदिता श्रीवास्तव ने परिचर्चा को एक अवकाश दिया।ऐसी पुस्तकों पर परिचर्चा पाठक वर्ग सदा करता रहता है।