रंगों की कहानी

इक खरगोश था चिट्टा राम

यार उसका, कौआ कालीराम ॥

खाना पीना और सो जाना

सिवा इसके कोई और न काम ॥

इक दिन कालू कौआराम

बोला चिट्टा राम से ॥

मैं काला तू चिट्टा गोरा

सोच सोच कर हूँ परेशान ॥

जब दो रंगों से चलता काम

सात रंगों का क्यों ये जहान ?

क्यों सात रंगों से इंद्रधनुष चमकाया ?

बेकार में क्यों समय गवाया ?

क्यों मोर में रंगीन चित्रकारी ?

क्यों फूलों में सुंदरता प्यारी ?

चिट्टा राम था बड़ा होशियार,

बोला सुन कालू मेरे यार ॥

पहले उसने दुनिया वाइट एंड ब्लैक बनाई ।

पर उसमें उसे कुछ कमी नजर आई ॥

सफ़ेद तोड़कर सात रंग निकाले ।

समुन्दर आकाश में नील घोल डाले ॥

लाखों फूल सतरंगी बनाये ।

उन पर मंडराने कीट पतंगे आये ॥

उनके ऐसे रंग देखकर ।

जीव जंतु भी भरमाये ॥

तोते को उसने हरा बनाया ।

टमाटर को लाल रंग पहनाया ॥

नील कंठ का कंठ नीला

नीम्बू और केला पीला पीला

जामुन को जामुनी बनाया ।

रंगीनअपनी रचना देखकर,

मन ही मन मुस्काया ॥

कालू राम कुछ समझ में आया ?

कालू राम ने उत्तर पाकर ।

अपना सर हिलाया ॥

परिचय - रविन्दर सूदन

शिक्षा : जबलपुर विश्वविद्यालय से एम् एस-सी । रक्षा मंत्रालय संस्थान जबलपुर में २८ वर्षों तक विभिन्न पदों पर कार्य किया । वर्तमान में रिटायर्ड जीवन जी रहा हूँ ।