Monthly Archives: June 2018

  • रुको मत !

    रुको मत !

    ये खटपट वाले रिश्ते भी जब मौन होते हैं तो मन को छटपटाहट होती है जाने क्या हुआ इनका लड़ना-झगड़ना ही साबित करता है जिंदगी में बाकी है अभी बहुत कुछ करना किसी को मनाना है...


  • लौट आओ प्रमिला

    लौट आओ प्रमिला

    प्रमिला, तुम्हें लौटना होगा. एक बार लौट आओ. 1960 के मार्च में हम आखिरी बार मिले थे. मुझे याद है कि हम बोर्ड के परीक्षा हॉल में तुम्हारी प्रतीक्षा कर रहे थे. पर्यवेक्षक को भी तुम्हारी...