धर्म-संस्कृति-अध्यात्म

सावन मनभावन महीना

सावन का महीना बहुत पावन महीना कहलाता है। चारों ओर हरियाली और बारिश की हल्की -हल्की फुँआरें मन में एक नई उमंग पैदा करती हैं क्योंकि हमें भयंकर ताप से मुक्ति मिलती है। चारों ओर से बम-बम भोले का जयकारे से मन और भी प्रफुल्लित हो जाता है। इस महीने में शिव की पूजा का […]

धर्म-संस्कृति-अध्यात्म

चलो, स्वाध्याय करें

ओ३म् हमारा जहां तक ज्ञान है उसके अनुसार संसार में केवल वैदिक मत ही एकमात्र ऐसा धर्म वा मत है जहां प्रत्येक मनुष्य को वेद आदि सद्ग्रन्थों के स्वाध्याय को नित्य कर्तव्य कर्मों से जोड़ा गया है। वैदिक काल में प्रमुख ग्रन्थ ‘चार वेद’ थे और आज भी संसार के साहित्य में चार वेद ही […]

धर्म-संस्कृति-अध्यात्म

सृष्टिकर्ता ईश्वर प्रदत्त ज्ञान है वेद और संस्कृत भाषा

ओ३म् संसार में दो प्रकार की रचनायें देखने को मिलती है। एक अपौरूषेय और दूसरी पौरूषेय रचनायें। अपौरूषेय रचनायें वह होती हैं जो मनुष्यों के द्वारा असम्भव होने से नहीं की जा सकती। उदाहरण के लिए सूर्य, चन्द्र व पृथिवी सहित पृथिवी पर वायु, जल, अग्नि आदि की उत्पत्ति मनुष्य कदापि नहीं कर सकते। यह […]

स्वास्थ्य

बवासीर : कारण और निवारण

बवासीर (अंग्रेजी में पाइल्स) एक ऐसा रोग है जिसको प्रकट करने में लोग शर्माते हैं क्योंकि यह रोग उनके मल विसर्जन से जुड़ा हुआ है। लेकिन यह बहुत बड़ी गलती है, क्योंकि इसे छिपाने का बुरा परिणाम भयंकर कष्ट के रूप में भुगतना पड़ता है। इसलिए जैसे ही इसका संदेह हो या ज्ञान हो, तत्काल […]

गीत/नवगीत

“देशज गीत”

जिनगी में आइके दुलार कइले बाट गज़ब राग गाइके सुमार कइले बाट नीक लागे हमरा के अजबे ई छाँव बा कस बगिया खिलाइ के बहार कइले बाट॥……जिनगी में आइके दुलार कइले बाट फुलाइल विरान वन चम्पा चमेली कान-फूंसी करतानी सखिया सहेली मनवा डेरात मोरा पतझड़ पहारू रात-दिन सावन जस फुहार कइले बाट॥…..जिनगी में आइके दुलार […]

गीतिका/ग़ज़ल

गले मिलकर ग़िले शिकवे मिटाने की तमन्ना है

गले मिलकर ग़िले शिकवे मिटाने की तमन्ना है ग़मो के दौर में फ़िर मुस्कुराने की तमन्ना है तमन्ना है रखूँ बस याद लोंगो की भलाई को बुराई को सभी की भूल जाने की तमन्ना है गये जो रूठकर मुझसे मेरे अपने उन्हें फिर से किसी भी हाल में अपना बनाने की तमन्ना है धधकती नफ़रतों […]

समाचार

विकलांग बल समाचार

डिसेबल्ड हेल्पलाइन इंडिया के उत्तर प्रदेश सचिव मोहित सिंह ने दिनाक 29/09/2018 (रविवार) को लखनऊ में कई अधिकारियो से मुलाकात की जिसमे इलाहबाद बैक के चीफ मैनेजर विजयकुमार सिंघल (बधिर) , PWD के दिनेशपति त्रिपाठी (आंशिक श्रवण विकलांग) ने विकलांग लोगो को स्वरोजगार उपलब्ध कराने और विकलांग संघर्ष को एक झंडे तले लाने, विकलांग बल […]

सामाजिक

लेख– सकारात्मक दृष्टिकोण का अभाव बढ़ते सामूहिक आत्महत्या की वज़ह

हम आधुनिक हो रहें हैं। धर्म को विज्ञान चुनौती दे रहा है। हम क़सीदे भी पढ़ रहें वैज्ञानिक युग में जीने का। पर इन सब के भंवर में शायद हमारे सोचने-समझने, तर्क-वितर्क करने और आत्मचिंतन करने की प्रक्रिया को बिसार चुके हैं। पहले दिल्ली का बुराड़ी, फ़िर उसके उपरांत झारखंड का हजारीबाग और अब जाकर […]

लघुकथा

जाल

कल तक वह 14 वर्षीय कक्षा 9 की छात्रा बच्ची थी, अब पीड़िता बन गई है. एक जाल ने उसे फंसा लिया था. पिछले एक महीने से दर्जी की दुकान चलाने वाला उसका पड़ोसी उसका पीछा कर रहा था. एक दिन उसने बच्ची को अपनी बाइक पर लिफ्ट ऑफर की, पहले तो उसने मना किया […]

धर्म-संस्कृति-अध्यात्म

मनुष्य जन्म का उद्देश्य व लक्ष्य विद्या प्राप्ति एवं ईश्वर-साक्षात्कार

ओ३म् संसार में ईश्वर, जीव व प्रकृति इन तीन अभौतिक व भौतिक पदार्थों का अस्तित्व है। ईश्वर व जीव चेतन हैं तथा प्रकृति जड़ जड़ सत्ता है। ईश्वर सच्चिदानन्दस्वरुप, निराकार, सर्वज्ञ, सर्वशक्तिमान, सर्वव्यापक, सर्वान्तर्यामी, न्यायकारी तथा जीवों के कर्मों के अनुसार उनके जन्म व मृत्यु की व्यवस्था करने वाला है। हमें अपने मनुष्य जीवन के […]