ज़ाकिर नाइक और मलेशिया सरकार

मलेशिया के प्रधानमंत्री ने जाकिर नाईक भगोड़े को भारत को सौपने से मना कर दिया। उनका कहना है कि जब तक ज़ाकिर नाइक हमारे देश के लिए कोई समस्या नहीं है। तब तक हम उसे अपना नागरिक होने के कारण भारत को नहीं सौपेंगे। ब्रिटेन, कनाडा जैसे पश्चिमी देशों ने इस आतंकवादी मौलाना को अपने देश मे घुसने पर प्रतिबंध लगाया हुआ है। बांग्लादेश जैसे मुस्लिम देश ने भी ज़ाकिर नाइक पर कट्टरता फैलाने के आरोप में और ढाका में आतंकवादी घटना में लिप्त युवाओं को प्रेरित करने का आरोपी बनाया है। खेदजनक बात यह है कि ज़ाकिर नाइक को लेकर मलेशिया सरकार के मत का भारत सरकार से लेकर किसी भी राजनीतिक संगठन, किसी भी राष्ट्रवादी संगठन ने और न ही किसी भारतवासी ने कोई विरोध नहीं किया। 1200 वर्षों तक पश्चिम के खाड़ी देशों से इस्लाम की आंधी का भारत में प्रवेश हुआ। ज़ाकिर नाइक सरीखे लोग इसी आंधी को अब कट्टरवाद फैलाकर पूर्व की ओर से लाना चाहते हैं। खेदजनक बात यह है कि मलेशिया जैसे देश का प्रधानमंत्री उसे इस कार्य में सहायता दे रहा हैं।
ज़ाकिर नाइक के आतंकवाद के समर्थन में आने विडियो है। इन वीडियो में वह खुलेआम दहशतगर्द का समर्थक और अपने भड़काऊ भाषण से मुस्लिम युवाओं को कट्टरपंथी बनाने की साजिश करता दीखता हैं।
1) कट्टरपंथी जाकिर आतंकवादी ओसामा बिन लादेन का समर्थन करने के साथ-साथ सभी मुसलमानों से #Terrorist बनने को कहते हुए
2) गैर मुसलमानों की धार्मिक विचारधारा को गलत-झूठा बताते हुए कट्टरपंथी जाकिर कहता है कि इन धर्म वालों को किसी इस्लामिक देश मे अपने धार्मिक स्थल बनाने और इबादत का अधिकार नहीं हैं। इन सबको सच्चे दीन इस्लाम पर ईमान लाना पड़ेगा :-
3) इस्लाम छोड़ ईसाई-यहूदी या हिन्दू बनने वाले व्यक्ति को मौत की सजा देना जायज है और कुरान भी इसका आदेश देता है । इस्लाम को एक आर्मी की तरह बताते हुए कट्टरपंथी जाकिर इन इस्लाम छोड़ने वाले लोगों को “गद्दार” करार दे मौत की सजा का फरमान देता हुआ :-
हम भारतीयों को अपने वर्तमान और भविष्य की रक्षा के लिए क्या करना चाहिए।
१. लाखों भारतियों को मलेशिया के दूतावास के सामने विरोध प्रदर्शन कर वहां के प्रधानमंत्री और ज़ाकिर नाइक का पुतला फूंकना चाहिए।
२. UNO में इस मुद्दे पर भारत सरकार को मलेशिया की सरकार को घेरना चाहिए।
३. एक भी भारतवासी मलेशिया घूमने न जाये। ताकि मलेशिया का आर्थिक बहिष्कार हो।
४. विदेश में बसें भारतीयों को भी उन देशों में बनी मलेशिया के दूतावास पर विरोध प्रदर्शन करना चाहिए।
५. भारत सरकार के नाम पूरे देश में ज़ाकिर नाइक को पकड़ कर वापिस लाने के लिए ज्ञापन सौंपे जाये।
६. ज़ाकिर नाइक को इंटरपोल द्वारा भगोड़ा घोषित करवाया जाये।
अगर आप लोग इतना भी नहीं कर सकते तो एक ही काम कर दो। इस सन्देश को कुछ लोगों को फॉरवर्ड ही कर देना।
डॉ विवेक आर्य