फीफा वर्ल्ड कप 2018: एक बहुप्रतीक्षित जश्न

एक महीने का बहुप्रतीक्षित जश्न फीफा वर्ल्ड कप 2018 समाप्त हो गया है. यह जश्न मॉस्को में हुआ था. हर रोज इस जश्न में नए-नए मोड़ आते गए और जैसे ही फाइनल नजदीक आया, सबके मन में बस एक ही प्रश्न था, कि फ्रांस और क्रोएशिया में से जीत किसकी? अब इस जिज्ञासा का भी पटाक्षेप हो गया है. क्रोएशिया को 4-2 से हराकर फ्रांस दूसरी बार चैंपियन बन गया.

हार-जीत का फैसला होते ही पूरा लुजनिकी स्टेडियम जश्न के शोर में डूब गया. आखिर यह होता भी क्यों नहीं! 20 साल बाद फ्रांस एक बार फिर फुटबॉल का सरताज बन चुका था. वहीं दूसरी तरफ लाल-सफेद जर्सी में मौजूद क्रोएशिया टीम आंसुओं में डूबी थी. खुद को संभालते हुए 40 लाख की आबादी वाले इस मुल्क के प्लेयर्स फ्रांस के सम्मान में तालियां भी बजा रहे थे.

जश्न में डूबा फ्रांस, फैंस हुए क्रेजी. फ्रांस के राष्ट्रपति इमैन्युअल मैक्रों ने भी खुशी के अंदाज में जश्न मनाया. फ्रांस ने इससे पहले 1998 में विश्व कप जीता था. तब उसके कप्तान डिडियर डेसचैम्प्स थे जो अब टीम के कोच हैं. इस तरह से डेसचैम्प्स खिलाड़ी और कोच के रूप में विश्व कप जीतने वाले तीसरे व्यक्ति बन गए हैं.
टीम जहां रूस में चैंपियन बन रही थी वहीं उसके फैंस फ्रांस में क्रेजी हो रहे थे.

जीत के बाद फैंस फ्रांस की राजधानी पैरिस में सड़कों पर डांस करते दिखाई दिए.

एफिल टावर के सामने फ्रांस टीम के फैंस ने जश्न मनाया. टीम की जीत के बाद फ्रांस के फैंस ने फाउंटेन डांस करके जश्न मनाया.

फीफा वर्ल्ड कप में इन खिलाड़ियों को मिले विशेष पुरस्कार-

टूर्नमेंट में सबसे ज्यादा गोल करने के लिए इंग्लैंड के हैरी कैन को गोल्डन बूट दिया गया. उन्होंने 6 मैचों में 6 ही गोल किए थे. 2014 में यह पुरस्कार हामेस रोड्रिगेज (कोलंबिया) ने जीता था. उन्होंने भी 6 गोल किए थे.

क्रोएशिया के कैप्टन लुका मोडरिच को गोल्डन बॉल पुरस्कार मिला. यह टूर्नमेंट के बेस्ट प्लेयर को दिया जाता है. साल 2014 में यह पुस्कार अर्जेंटीना के लियोनेल मेसी को मिला था.

बेल्जियम के गोलकीपर थिबोउ कोर्टवा को गोल्डन ग्लव्स मिले. उन्हें टूर्नमेंट का बेस्ट गोलकीपर चुना गया है। उन्होंने 7 मैचों में 27 गोल रोके.

फ्रांस के एमबापे (19 साल) को फीफा यंग प्लेयर अवॉर्ड मिला.

स्पेन को इस बार फेयर प्ले अवॉर्ड दिया गया. कम से कम सेकंड राउंड तक पहुंचनेवाली टीम इसकी दावेदार होती है. 2014 में यह कोलंबिया को मिला था.

एक महीने तक FIFA World Cup की चकाचौंध के बाद अब सब कुछ सामान्य हो रहा है, लेकिन फ्रांस की विजेता टीम जब अपने देश पहुंचेगी, तब एक बार फिर धमाचौकड़ी और जश्न देखने को मिलेगा.

परिचय - लीला तिवानी

लेखक/रचनाकार: लीला तिवानी। शिक्षा हिंदी में एम.ए., एम.एड.। कई वर्षों से हिंदी अध्यापन के पश्चात रिटायर्ड। दिल्ली राज्य स्तर पर तथा राष्ट्रीय स्तर पर दो शोधपत्र पुरस्कृत। हिंदी-सिंधी भाषा में पुस्तकें प्रकाशित। अनेक पत्र-पत्रिकाओं में नियमित रूप से रचनाएं प्रकाशित होती रहती हैं।