धर्म-संस्कृति-अध्यात्म

वर्षा ऋतु और वेद 

वर्षा ऋतु का आगमन हो गया है। भीष्म गर्मी के पश्चात वर्षा का जल जब तपती धरती पर गिरता है। तो गर्मी से न केवल राहत मिलती है।  अपितु चारों जीवन में नवीनता एवं वृद्धि का समागम होता हैं। वेदों में वर्षा ऋतु से सम्बंधित अनेक सूक्त हैं। जैसे पर्जन्य सूक्त ( ऋग्वेद 7/101,102 सूक्त), […]

कविता

कविता

क्या सुनाना था तुम महफ़िल में ये क्या सुना आए अगले शायर का कद शायद तुम्हें मालूम नहीं है बस एक ही वस्ल की उम्र थी तुम्हारे इंतज़ार की इश्क़ करनेवालों की हद शायद तुम्हें मालूम नहीं है दरिया का उमड़ना देखा है समंदर का तूफाँ बाकी है सरफिरे मौजों का जद शायद तुम्हें मालूम […]

लघुकथा

भेड़िया आया था

“भेड़िया आया… भेड़िया आया…” पहाड़ी से स्वर गूंजने लगा। सुनते ही चौपाल पर ताश खेल रहे कुछ लोग हँसने लगे। उनमें से एक अपनी हँसी दबाते हुए बोला, “लो! सूरज सिर पर चढ़ा भी नहीं और आज फिर भेड़िया आ गया।“ दूसरा भी अपनी हँसी पर नियंत्रण कर गंभीर होते हुए बोला, “उस लड़के को […]

ब्लॉग/परिचर्चा सामाजिक

‘मां, मुझे ठीक कर दो या मार डालो’

मध्य प्रदेश के मंदसौर में दरिंदगी की शिकार हुई सात साल की मासूम बच्ची जिन्दगी और मौत से जूझ रही है। वहीँ देशभर में बच्ची के साथ ऐसी हैवानियत करने वाले दरिंदे को फांसी पर लटकाने की मांग तेज हो गयी है। इसी बीच दरिंदे की हैवानियत का शिकार हुई बच्ची ने अपनी माँ से […]

लघुकथा

अनोखा संगम

धृतराष्ट्र को महाभारत युद्ध का सजीव वर्णन सुनाने के लिए व्यास मुनि ने संजय को दिव्य दृष्टि प्रदान की थी. धृतराष्ट्र को सम्पूर्ण महाभारत युद्ध का सांगोपांग विवरण सुनाया यह बात आज अचानक मुझे याद आ गई. मैंने कभी सपने में भी नहीं सोचा था, कि आज भी किसी को ऐसी दिव्य दृष्टि मिल सकती […]

गीत/नवगीत

मंदसौर की घटना पर

कठुआ में सब काठ के उल्लू पहुँच गए थे रोने को लेकर साथ मीडिया पहुंची तकिया और बिछौने को मोमबत्तियों की बिक्री में देखा खूब इज़ाफ़ा था पप्पू अपना लेकर चप्पू चला चला कर हांफा था नाम आसिफा था, यह सुनकर सब के सब बौराये थे रेप रेप हो गया इंडिया, सबके सब चिल्लाये थे […]