दौर

 

महाकवि नीरज जी को दिल से नमन
💐💐💐💐💐💐💐💐💐
वो दौर भी अजीब था ,
खिले खिले थे फूल से ।
ये दौर भी अजब सा है ,
मीत वो दूर से मिले ।
कारवां थम सा गया
वो मस्तियों के दौर से ।

बिखर रही थी खुशबुएं
मचल रहे अरमान थे ।
जिंदगी के मोड़ में कुछ
ख़्वाब अजीब से पले ।
गमगीन है दिल मेरा ,
जाने क्यों इस दौर से ।
दिल का गुबार मचल रहा ,
कहने को कुछ गौर से ।

आंधियों की क्या बिसात ,
हम भी तो तूफान हैं ।
न टूटने की शाख से खाई है
हमने भी कसम,
वो दौर भी अजीब था ,
ये दौर भी अजब सा है

वो शोखियाँ गुलाब की ,
वो लरजती सी शाम थी
हुस्न आफताब था
चाँद के आगाज से ।
वो दौर भी गुजर गया ,
ये दौर भी गुजर जाएगा
घोल कर तो देखना
फिजाओं में रंग बहार के ,
तोल कर तो देखना
प्यार को गुलाब से ।

चुभन भूल जाओगे ,
खुशबूओं के सामने ,
आएगी जो याद
फिर से आफताब की ।
वो दौर भी गुजर गया ,
ये दौर भी गुजर जाएगा ,
रह जायेगा फिजा में
नाम बस शबाब का ।

जिंदगी की चाल को
कौन समझ पाया है ,
दिल के किसी राज को
दफन करके ही सुकून पाया है ।
वो लोग कुछ और थे ,
ये लोग भी अजीब हैं ।

प्यार के नाम पर बिक जाते हैं
हजारों फूल भी ,
दामन में बस इश्क़ के
काँटों का हसीन साया है ।
वो दौर भी गुजर गया ,
ये दौर भी गुजर जाएगा
वक़्त ने इश्क़ पर बस जुल्म ढाया है ।
वर्षा वार्ष्णेय अलीगढ़

परिचय - वर्षा वार्ष्णेय

पति का नाम –श्री गणेश कुमार वार्ष्णेय शिक्षा –ग्रेजुएशन {साहित्यिक अंग्रेजी ,सामान्य अंग्रेजी ,अर्थशास्त्र ,मनोविज्ञान } पता –संगम बिहार कॉलोनी ,गली न .3 नगला तिकोना रोड अलीगढ़{उत्तर प्रदेश} फ़ोन न .. 8868881051, 8439939877 अन्य – समाचार पत्र और किताबों में सामाजिक कुरीतियों और ज्वलंत विषयों पर काव्य सृजन और लेख , पूर्व में अध्यापन कार्य, वर्तमान में स्वतंत्र रूप से लेखन यही है जिंदगी, कविता संग्रह की लेखिका नारी गौरव सम्मान से सम्मानित पुष्पगंधा काव्य संकलन के लिए रचनाकार के लिए सम्मानित {भारत की प्रतिभाशाली हिंदी कवयित्रियाँ }साझा संकलन पुष्पगंधा काव्य संकलन साझा संकलन