पल्लू

आज एक खबर पढ़ी-

”मुंबई के कांजुर मार्ग रेलवे स्टेशन पर जैसे ही यह महिला ट्रेन से नीचे उतरी, उसकी साड़ी का पल्लू ट्रेन के दरवाजे में फंस गया और वह प्लेटफॉर्म और ट्रेन के गैप में गिर पड़ी. एक नेकदिल-साहसी कांस्टेबल ने कूदकर उसकी जान बचाई. मैं उस महिला के बाल-बाल बचने पर मन-ही-मन बहुत खुश थी और उस नेकदिल-साहसी कांस्टेबल के प्रति मेरा मन श्रद्धावनत हो गया. इसी के साथ मुझे स्मृति हो आई लगभग 12 साल पहले के मधु के पल्लू की.

मधु का पल्लू साड़ी का नहीं, स्वेटर का था. मधु इंग्लिश की अध्यापिका थी. बहुत प्यारी और नाम के अनुरूप मधुर स्वभाव वाली. सर्दियों के दिन थे. वह अपनी 4-5 सहकर्मियों के साथ स्कूल से निकलकर डीटीसी की बस में सवार हुई. गंतव्य आने पर उसे भी अपनी सखियों के साथ उतरना था और और फिर घर की बस पकड़नी थी.

घर की बस पकड़ने से पहले उस बस ने ही उसके लंबे स्वेटर के पल्लू को पकड़ लिया. नियमानुसार सभी सखियां आगे के दरवाजे से बस से उतरीं. मधु भी उतर गई, लेकिन बस के किसी नुकीले कोने के मधु के स्वेटर के पल्लू को पकड़ लिया और वह गिर गई. बस चल पड़ी थी. सबके देखते-देखते मधु उसी बस के पीछे के पहिए के नीचे कुचली जा चुकी थी.

थोड़ी देर में खबर हम तक पहुंच गई. उसके स्वेटर के पल्लू ने उससे न जाने किस जन्म का बदला लिया था.

परिचय - लीला तिवानी

लेखक/रचनाकार: लीला तिवानी। शिक्षा हिंदी में एम.ए., एम.एड.। कई वर्षों से हिंदी अध्यापन के पश्चात रिटायर्ड। दिल्ली राज्य स्तर पर तथा राष्ट्रीय स्तर पर दो शोधपत्र पुरस्कृत। हिंदी-सिंधी भाषा में पुस्तकें प्रकाशित। अनेक पत्र-पत्रिकाओं में नियमित रूप से रचनाएं प्रकाशित होती रहती हैं।