माँ के चरणों में भक्त का विनम्र निवेदन

माँ के चरणों में भक्त का विनम्र निवेदन

होंठों पे माँ बस तेरा ही नाम है ,
तुझे इक पल तो आना पड़ेगा ,
ग़म किसको सुनाऊँ मैं मइया ,
अब तुझको तो सुनना पड़ेगा ।

मेरा तेरे सिवा कौन है माँ ,
तेरी दासी ने तुझको पुकारा ,
रूठ जाना न मुझसे तू मइया ,
नहीं तो तुझको मनाना पड़ेगा ।
होंठों पे माँ ……….

मेरी किश्ती है मझदार में माँ ,
बैठी हूँ मैं तेरे इंतज़ार में माँ ,
सारी दुनिया की दाती है तू ,
आगे पार लगानी पड़ेगी ।
होंठों पे माँ ……….

दासी तेरी दूर आ गई माँ ,
तेरे दर पे वर पा गई माँ ,
आशा पूरी तू करती है माँ ,
तेरा ध्यान लगाना पड़ेगा ।।

होंठों पे माँ तेरा नाम है …………

परिचय - नूतन गर्ग

दिल्ली निवासी एक मध्यम वर्गीय परिवार से। शिक्षा एम ०ए ,बी०एड०: प्रथम श्रेणी में, लेखन का शौक