भक्त

जप रहा था माला मंदिर में
एक भक्त रात-दिन,
हे राम, हे कृष्ण, हे शिव,
सबका नाम गिन गिन।
आया कोई भिखारी
ऐसे समय मंदिर द्वार,
भूखे को रोटी दे दो
लगाई उसने गुहार।
तीन दिन से भूखा हूं मैं
गया नहीं पेट में अन्न का दाना,
भटकता हूं इधर उधर मैं
रहने का नहीं कोई ठिकाना।
मलीन वस्त्र, जीर्ण काया
था वह अति दुर्बल,
खड़ा ना होते बना उससे
बैठ गया घुटनों के बल।
दूर हो जा मंदिर के द्वार से
कहां भक्त ने चिल्लाकर,
पाप लगेगा मुझ पर
तुझ सा अपवित्र को खिलाकर।
धरा रूप शिव का भिखारी
हो गया नजरों से ओझल,
समझा तब भक्त ने तब
प्रभु ने किया उससे छल।
जिसमें ना दया, मानवता
उसके हृदय में मेरा वास नहीं,
भूखे को जो रोटी दे
करता मैं निवास वहीं!!!!!

पूर्णतः मौलिक – ज्योत्सना पाॅल।

परिचय - ज्योत्स्ना पाॅल

भारतीय स्टेट बैंक से सेवानिवृत्त भोपाल (म.प्र.) ईमेल - paul.jyotsna@gmail.com