बलि

 

मां का लाडला इंजीनियरिंग कर अच्छी जगह लग गया बड़े शहर में ।
उसके लिए बड़े बड़े शहर की लड़कियों के रिश्ते आने लगे ।गरीब खेतिहर मां बाप जिन्होंने बेटे को कैसे इस लायक बनाया वो देख फुले नही समा रहे ।
बेटा उनका अनोखा जो शादी को हाँ नही कर रहा ।
” देख ,तू हां क्यो नही कर रहा है शादी को । कितने अच्छे अच्छे रिश्ते आ रहे है “।
कुछ तो तेरे बराबर है और तेरे पहले से काम करती हुई है । तुम दोनों रहो शहर में कमाओ खाओ “।
” हम्म्म्म………”।
” क्या , हम्म ??
” मुझे ज्यादा कमाती नही चाहता “।
” तुझे तो तेरे बराबर की ही चाहिए ।
चल ये देख बहुत सीधी है पढ़ी भी है इससे कर ले ।
गाय है ये सीधी भोली “।
” मां…………
” नही चाहिए मुझे गाय जो बहुत सीधी हो। बुआ का हाल भूल गई । वो भी तो गाय थी ।उसको या तो शहर रास नही आया या शहर को वो रास नही आई और बलि चढ़ गई शहर के .…………..”।
………………………………………………………..

सारिका औदिच्य