कमाल के किस्से-14

ये कमाल क्या है? कमाल क्यों होता है? कमाल कब होता है? कुछ पता नहीं, पर हो जाता है. चलिए आज हम फिर कमाल की ही बात कर लेते हैं. पहले प्रस्तुत हैं कमाल के किस्से की पिछली कड़ी में कुछ पाठक-कामेंटेटर्स की प्रतिक्रियाएं व किस्से कमाल के-

इतिहास में करीब चार वर्षों तक चले प्रथम विश्‍व युद्ध ने दुनिया का नक्‍शा बदल दिया था. यह युद्ध 28 जुलाई 1914 से 11 नवंबर 1918 के बीच लड़ा गया. इस लड़ाई में दुनिया ने विनाश की उस तस्‍वीर को देखा जिसको दोबारा कोई नहीं देखना चाहेगा. इस लड़ाई में पांच करोड़ से अधिक लोगों की मौत हुई. इसमें यूरोप, एशिया और अफ्रीका जैसे तीन बड़े महाद्वीपों ने हिस्‍सा लिया और यह समुद्र से लेकर धरती और आकाश में लड़ा गया. यह एक ऐसा युद्ध था जिसमें घायलों की ही संख्‍या करोड़ों में थी. इस विश्व युद्ध के खत्‍म होते-होते चार बड़े साम्राज्य रूस, जर्मनी, ऑस्ट्रिया-हंगरी (हैप्सबर्ग) और उस्मानिया ढह गए. यूरोप की सीमाएं फिर से निर्धारित हुई और इसके अंत तक अमेरिका दुनिया की महाशक्ति बनकर उभरा था.
सुदर्शन खन्ना

कमाल की वेटिकन सिटी
पोप फ्रांसिस ने कहा है कि साफ पेयजल लोगों को मिलना उनका मानवाधिकार है और इसलिए यह बेहद शर्मनाक है कि इसके अभाव में लाखों लोग बीमार पड़ जाते हैं और उनकी मौत हो जाती है. जल प्रबंधन कॉन्फ्रेंस में गुरुवार को अपने संदेश में फ्रांसिस ने निराशा प्रकट करते हुए कहा कि युद्ध, भ्रष्टाचार और वित्तीय हित अक्सर सभी के लिए स्वच्छ पानी तक सार्वभौमिक पहुंच प्रदान करने वाले रास्ते में आ जाते हैं. संयुक्त राष्ट्र के अनुसार दुनियाभर में 88.4 करोड़ लोगों को साफ पेयजल नहीं मिल रहा है.
प्रेषक सुदर्शन खन्ना

कमाल की प्रक्रिया-
रक्तदान एक ऐसा उपहार है, जिससे
किसी को जिंदगी मिल सकती है,
तो आइए रक्तदान करें और मुरझाए
चेहरों को खुशी दें.

कमाल तो यह है कि जहाँ रक्त दान से जीवन मिलता है वहीं रक्तदाता में नए रक्त का निर्माण होता है और शुद्धि प्रक्रिया चलती रहती है.
प्रेषक सुदर्शन खन्ना

कमाल की स्निफर डॉग-
चिकमंगलुरुः ‘क्राइम क्रैकर’ स्निफर डॉग की मौत, दिया गया ‘कैनिन कॉप’ का सम्मान
डेजी चिकमंगलुरु आर्म्ड रिजर्व में अटैच्ड थी. वह जिले की सबसे ज्यादा पॉप्युलर स्निफर डॉग थी. उसने 105 आपराधिक मामलों का निरीक्षण किया। इनमें से उसकी मदद से आठ हत्या के आरोपी, पंद्रह चोरी के और बीस अन्य अपराधों के आरोपी पकड़े गए.

कमाल की तेल की धार-
65 डॉलर प्रति बैरल तक आ गिरा कच्चा तेल, एक महीने में 22 डॉलर सस्ता, रुपया 67 पैसे तक मजबूत
अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल का भाव गिरकर 65 रुपये के आसपास आ जाने से डॉलर के मुकाबले रुपये में जबर्दस्त तेजी आ गई. रुपया 67 पैसे मजबूत होकर दो महीने से सर्वोच्च स्तर को छू लिया.

कमाल के संयोग पर संयोग-
संयोग पर संयोग देखिए. 14 नवंबर 2018 छठ पर्व का समापन दिवस भी था, बाल दिवस भी और विश्व डायबिटीज दिवस भी. जानकारी पाइए, जागरुकता बढ़ाइए.
डायबिटीज या शुगर एक गंभीर समस्या है. पिछले कुछ दशकों में डायबिटीज के मरीजों की संख्या काफी बढ़ गई है. डायबिटीज के बारे में लोगों को जागरूक करने और इससे बचाव के लिए हर साल 14 नवंबर को विश्व डायबिटीज दिवस मनाया जाता है. डायबिटीज की स्थिति में मरीज के खून में शुगर घुलने लगता है, जिसके कारण कई तरह की परेशानियां शुरू हो जाती है. ब्लड में शुगर की मात्रा बढ़ जाने पर हार्ट अटैक, किडनी फेल्योर, फेफड़ों और लिवर की कई बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है. डायबिटीज शरीर के साथ-साथ मस्तिष्क को भी प्रभावित करता है इसलिए इससे बचाव बहुत जरूरी है.

कमाल की चाहत-
इस शख्स को क्यों नहीं चाहिए 30 मिनट में पिज्जा?
कंपनी कहती है कि 30 मिनट में पिज्जा घर पर न पहुंचने पर वह हमें फ्री में वो पिज्जा देगी. फिर भी हैदराबाद के रजत कुमार रॉय की चाहत है, कि उसे 30 मिनट में पिज्जा नहीं चाहिए, क्योंकि 30 मिनट में पिज्जा पाने से कहीं ज्यादा जरूरी है डिलिवरी बॉय की जिंदगी. रजत पोस्ट में लिखते हैं, ‘एक बार एक डिलीवरी बॉय मेरी कार के नीचे आता-आता बचा था. मुझे उस पर काफी गुस्सा आया और मैंने झल्लाते हुए उससे कहा, तुम मर भी सकते थे?’ चोट लगने के बाद भी वह उठा और उसने कहा, ‘सॉरी सर जाम लगा था, इसलिए देर हो रही थी. मुझे किसी भी हालत में यह ऑर्डर डिलीवर करना है!’
आपका क्या ख्याल है?
प्रेषक सुदर्शन खन्ना

कमाल की फर्म-
लेडी बाउंसर्स फर्म एक पूर्व ब्यूटिशन अमिता कदम ने दो साल पहले शुरू की थी. इसकी शुरुआत पांच लेडी बाउंसर्स से हुई थी और आज इसमें पचास लेडी बाउंसर्स काम कर रही हैं. ये सभी पुणे के पब और आयोजनों में सुरक्षा का काम करती हैं. पब और कार्यक्रम में सुरक्षा के दौरान महिलाओं के साथ दुर्व्यवहार करने वालों को सबक सिखाने के साथ नशे में हो जाने वाली महिलाओं की मदद भी करती हैं.

कमाल की योग-जानकारियां-
प्रेषक- सुदर्शन खन्ना
भाग-8
71. *अगर पेट* में मल बंध गया है तो अदरक का रस या सोंठ का प्रयोग करें.

72. *कब्ज* होने की अवस्था में सुबह पानी पीकर कुछ देर एडियों के बल चलना चाहिए.

73. *रास्ता चलने*, श्रम कार्य के बाद थकने पर या धातु गर्म होने पर दायीं करवट लेटना चाहिए.
74. *जो दिन मे दायीं करवट लेता है तथा रात्रि में बायीं करवट लेता है उसे थकान व शारीरिक पीड़ा कम होती है.*

75. *बिना कैल्शियम* की उपस्थिति के कोई भी विटामिन व पोषक तत्व पूर्ण कार्य नहीं करते है.

76. *स्वस्थ्य व्यक्ति* सिर्फ 5 मिनट शौच में लगाता है.

77. *भोजन* करते समय डकार आपके भोजन को पूर्ण और हाजमे को संतुष्टि का संकेत है.

78. *सुबह के नाश्ते* में फल , *दोपहर को दही* व *रात्रि को दूध* का सेवन करना चाहिए.
79. *रात्रि* को कभी भी अधिक प्रोटीन वाली वस्तुयें नहीं खानी चाहिए । जैसे – दाल , पनीर , राजमा , लोबिया आदि.

80. *शौच और भोजन* के समय मुंह बंद रखें, भोजन के समय टी वी न देखें.

योग की इन कमाल की जानकारियों के छठे भाग के साथ ही ‘किस्से कमाल के’ की इस कड़ी को हम यहीं पर विराम दे रहे हैं. आप भी कामेंट्स में कमाल के अन्य किस्से भेज सकते हैं. कामेंट्स में आए आपके कमाल के किस्से अगली कड़ी में आप अपने नाम से देख पाएंगे.

परिचय - लीला तिवानी

लेखक/रचनाकार: लीला तिवानी। शिक्षा हिंदी में एम.ए., एम.एड.। कई वर्षों से हिंदी अध्यापन के पश्चात रिटायर्ड। दिल्ली राज्य स्तर पर तथा राष्ट्रीय स्तर पर दो शोधपत्र पुरस्कृत। हिंदी-सिंधी भाषा में पुस्तकें प्रकाशित। अनेक पत्र-पत्रिकाओं में नियमित रूप से रचनाएं प्रकाशित होती रहती हैं।