चोट

आज अनुपमा के भाई का संदेश आया था- ”दीदी, अपने राजकुमार सर नहीं रहे.” अनुपमा का मन अंदर तक भीग गया.

”राजकुमार सर यानी काले रूल वाले काले खां, जो उसे छठी कक्षा में पढ़ाते थे. छात्रों को सर्वगुणसंपन्न बनाने की चाहत वाले ऐसे आदर्श अध्यापक विरले ही मिलते हैं.” आज भी अनुपमा का यही मानना है. एक दिन राजकुमार सर ने ही बताया था-

”आत्मविश्वास सफलता की कुंजी है,
अगर आपका खुद पर विश्वास नहीं है,
तो और कोई नहीं करेगा.”

इसी पर अमल करके अनुपमा ने अपने नाम के अनुरुप अनेक उपलब्धियां हासिल की थीं.

उस मंज़र को भी वह कैसे भूल सकती है! उस दिन सिर्फ वह और हरपाल सिंह ही होम वर्क करके आए थे. एक-एक कर दस छात्र क्या खड़े हो गए, पूरी क्लास को खड़ा होने का आदेश जारी हो गया. इस आदेश का सीधा अर्थ था, हथेली पर काले खां का भयानक प्रहार. सबने काले खां के प्रहार के लिए दाहिना हाथ ही आगे बढ़ाया था, ताकि अगर चोटिल हो जाएं, तो कुछ दिन और होमवर्क से छुट्टी! अनुपमा और हरपाल सिंह ने बांयां हाथ आगे किया, ताकि होमवर्क करने में कोई बाधा न आए.

अगले दिन अनुपमा और हरपाल सिंह के बांएं हाथ में पट्टी बंधी थी, बाकी किसी को कोई चोट नहीं आई. पर यह चोट क्या सिर्फ़ छात्र-छात्रा को आई, राजकुमार सर को नहीं! जब उन्होंने उनके हाथ में बंधी पट्टी देखी, तो समझ गए, कि इनके दिल पर भी चोट लगी है.

छठी कक्षा के बाद अनुपमा के पापा का तबादला दूसरे शहर में हो गया था, फिर अनुपमा की शादी हो गई थी. 22 साल के अंतराल के बाद भाई की शादी में राजकुमार सर आए थे. अनुपमा से मिलते ही उन्होंने उसके बांएं हाथ को देखते हुए पूछा- ”वह चोट ठीक हो गई?”

परिचय - लीला तिवानी

लेखक/रचनाकार: लीला तिवानी। शिक्षा हिंदी में एम.ए., एम.एड.। कई वर्षों से हिंदी अध्यापन के पश्चात रिटायर्ड। दिल्ली राज्य स्तर पर तथा राष्ट्रीय स्तर पर दो शोधपत्र पुरस्कृत। हिंदी-सिंधी भाषा में पुस्तकें प्रकाशित। अनेक पत्र-पत्रिकाओं में नियमित रूप से रचनाएं प्रकाशित होती रहती हैं।