समाचार

गंगा बाट जोहत बारी लाल के-  लाल बिहारी लाल

नई दिल्ली। कला,साहित्य एवं संस्कृति के संरक्षण पर काम करने वाली संस्था संस्कार भारती के मेरठ जिला के गाजियाबाद मंडल द्वारा एक दिवसीय  मां गंगा पर भव्य कवि समारोह का आयोजन सरस्वती विद्या मंदिर में किया गया। जिसमें गाजियाबाद ,मेरठ ,दिल्ली गुड़गांव एवं फरीदाबाद सहित एन.सी.आर के लगभग 210 कवियों ने हिस्सा लिया। कार्यक्रम में […]

हास्य व्यंग्य

गली के कुत्तों की अनकही दुःखांतिका

हे देश के नीति – नियंताओं  । जिम्मेदार पदों पर आसीन नेताओं व अफसरों … आप सचमुच महान हो। जनसेवा में आप रात – दिन व्यस्त रहते हैं। इतना ज्यादा कि आप शूगर , प्रेशर , थाइराइड आदि से परेशान रहते हैं। आप देश के खेवैया हो। राष्ट्र की यह नैया आपके भरोसे ही आगे बढ़ रही है। […]

कहानी

विवश ममता

नंदिनी और उसकी सासु मां, सरोजा एवं ससुर मि. गणेशन, भास्कर को एयरपोर्ट पर छोड़ने आए थे। भास्कर का इस वर्ष पीएचडी की पढ़ाई के लिए अमेरिका के एक यूनिवर्सिटी में सिलेक्शन हो गया था। सबने उसे लाख समझाया कि अपने ही देश में कर लो पीएचडी। पर.. उसने नहीं सुनी, उसकी जिद थी अमेरिका […]

गीतिका/ग़ज़ल

गज़ल

न कर बर्बाद अपना वक्त ए दीवाने जा नसीब अपना कहीं और आज़माने जा ======================== तेरे अपनों को तो फुर्सत नहीं है सुनने की किस्से अपने अब तू गैरों को सुनाने जा ======================== पहले से ताल्लुकात न रहे हों अब मगर मिज़ाज़ पूछने की रस्म तो निभाने जा ======================== नाकामयाब हो के आखिर आ गया […]

कविता

दिलखुश जुगलबंदी

गुलिस्तां मेरी सल्तनत है इस सल्तनत के हैं हम बादशाह गुंचे भी मिलेंगे हज़ारों यहां ज़र्रा ज़र्रा घूम के तो देख रात के अंधियारे में तारे भी उतरते हैं हमारी सल्तनत में करते हैं गुफ्तगू चले जाते हैं सूरज की रोशनी आने से पहले.     हमारी सल्तनत में सितारे भी चमकते हैं फूल अपने […]

धर्म-संस्कृति-अध्यात्म

आर्यसमाज में मेरा 18 वर्षों का अनुभव

(आज 28/11/2018 को जन्मदिवस के अवसर पर आप सभी मित्रों का मंगल कामना एवं बधाई सन्देश मिला। उनका कोटि कोटि धन्यवाद। अनेक मित्रों ने इस अवसर पर अपने आर्यसमाज के अनुभवों को साँझा करने का निवेदन किया। मैं मेरे आर्यसमाज में 18 वर्षों के अनुभव को एक लेख के माध्यम से आप सभी से साँझा […]

लेख

काश: एक ऐसे तीर पहले चल गये होते

बचपन में मैंने पढ़ा था कि अति सर्वत्र वर्जयेत्’ अर्थात् अति का सभी जगह निषेध है। लेकिन इसका सही अर्थ अब समझ आया जब अंडमान निकोबार के द्वीप समूह के उत्तरी सेंटिनल द्वीप पर सेंटिनल जनजाति समुदाय के लोगों ने अपने क्षेत्र में घुस रहे एक अमेरिकी ईसाई धर्म प्रचारक को तीर से मार डाला। […]

गीतिका/ग़ज़ल

ग़ज़ल

बिछड़ कर तुझसे यूं जीना भी क्या कोई ये जीना है तेरा दर ही मेरा मक्का तेरा दर ही मदीना है गमों का शौक है मुझको तभी तो दिल लगाया है कि आंसूं, आहें, तन्हाई भरा मेरा ये सीना है ज़ुबां पर आ गया मेरी मुहब्बत का जो अफसाना ये आंखें यूं बरसती हैं ज्यूँ […]

गीत/नवगीत

कविता-मै गुदरी का लाल!!

मै गुदरी का लाल | नाम मेरा है छोटू- मोटू -वेद प्रकाश है असली नाम | बच्चा हु तो छोटू कहते -होटल पर है यही बस नाम || दुनिया क्या है पता नहीं है -जीवन में है एकही काम | बर्तन साफ करता छोटू -करे सफाई सुबहो शाम || मै गुदरी का लाल | मै […]

गीतिका/ग़ज़ल

तुम मेरे हो

तुम मेरे हाथ में तो हो पर मेरे लकीरों में नहीं तुम मेरे जिंदगी में तो हो पर मेरे किस्मत में नहीं तुम मेरे ख़्वाबों में तो हो पर मेरे साथ में नहीं तुम मेरे जज्बातों में तो हो पर मेरे हकीकत में नहीं तुम मेरे दिल में तो हो पर मेरे दिमाग में नहीं […]