Monthly Archives: December 2018



  • भारत की नारी

    भारत की नारी

    कभी किसी से नहीं डरी जो , वह भारत की नारी है  दुष्टों के संहार हेतू वह , सौ लोगों पर भारी है   ।। नहीं भूलते हम झांसी को और न उसकी रानी को  मर्दों को लज्जित कर डाले...


  • तीन तोते

    तीन तोते

    रंगबिरंगे तोते तीन, बजा रहे थे सीख की बीन, नये साल ने दस्तक दे दी, सीख लो अच्छी बातें तीन. पहला तोता बोला सुन लो, मत करना ”ना” ”नहीं” का प्रयोग, ”ना” कहने से नकारात्मकता उपजे,...

  • लिखे जो खत तुझे

    लिखे जो खत तुझे

    कामिनी जी बड़ी बेचैनी से डाकिये का इंतजार कर रही थी । आखिर क्यों ना इंतजार करे , गाँव में इण्टरनेट नहीं होने के कारण अपने पोते से चिट्ठी भेजकर ही संदेश और प्यार लुटाती थी...