शिक्षा का घटता स्तर

रमेश और नरेश कक्षा में आते ही झगड़ा करने लगते। मास्टर जी उनके व्यवहार से बड़ा परेशान हो जाते और दोनों को कक्षा से बाहर निकाल देते। कई दिनों तक यह क्रम लगातार चलता रहा। मास्टर जी बड़ा परेशान क्या करें? एक दिन उन्होने दोनों के हाथ में एक-एक पत्र पकड़ाते हुए कहा कि “अब अपने अभिभावकों के साथ सीधे प्रधानाचार्य जी के कमरे में मिलना।” कहकर कमरे के बाहर निकल जाते हैं।
अगले दिन सुबह दोनों अपने अभिभावकों के साथ प्रधानाचार्य जी के कमरे में तैनात मिलते हैं और दोनों के चेहरे पर ज़रा सी भी शिकन नहीं थी कि कोई ग़लत काम किया है। मास्टर जी को बड़ा ताज्जुब होता है उनका यह व्यवहार देखकर! अब तो उनके आश्चर्य की सीमा ही समाप्त हो रही थी जब अभिभावक यह कह रहे थे कि “ये तो बहुत पक्के दोस्त हैं और एक दूसरे के बग़ैर एक दिन भी नहीं रह सकते।”
उस समय मास्टर जी के मन पर करोड़ों सवाल एकसाथ दस्तख दे रहे थे! उन्हें कुछ समझ नहीं आ रहा था कि आख़िर अभिभावक ऐसा क्यों कह रहे हैं? अब उनके सब्र का बाँध टूटना शुरू हो गया था। आख़िर उन्होंने झट से पूछ ही लिया? अगर ये दोनों पक्के दोस्त हैं तो फिर “वह रोज़ का झगड़ा क्या है?”
दोनों एकसाथ बोलने लगे क्योंकि आज़ उन्हें बोलने का मौक़ा जो मिला था “मास्टर जी आप सिर्फ़ पढ़ाते ही रहते हैं कुछ समझाते ही नहीं हैं और हमारे प्रश्नों के उत्तर भी नहीं देते। हमसे कहते हैं कि ख़ुद ही पता कर लो फिर कक्षा में बैठकर समय बर्बाद करने से अच्छा हमने सोचा कि क्यों ना झूठे झगड़े करके वहाँ से खिसका जाये और पुस्तकालय में जाकर अपने प्रश्नों का उत्तर ढूँढ लिया जाये।”
“अब आप सब बताइये क्या हमने ग़लत किया है? हमने तो अपना अमूल्य समय ही बचाया है।” दोनों सबके सामने अपना सवाल रखते हैं?
प्रश्नचिह्न की भाँति सब एक-दूसरे का मुँह देखने लगते हैं? क्योंकि इसका ज़वाब किसी के पास नहीं था?

मौलिक रचना
नूतन गर्ग (दिल्ली)

परिचय - नूतन गर्ग

दिल्ली निवासी एक मध्यम वर्गीय परिवार से। शिक्षा एम ०ए ,बी०एड०: प्रथम श्रेणी में, लेखन का शौक