बेटी तुम

तुम हो वीर
है तुम में धीर
साहस का पर्यायवाची
एक शब्द हो तुम।

तुम मेरी आशा
अंतर्मन की भाषा
ह्रदय गंगा से बहते प्रेम की
अविरल धारा हो तुम।

ऊंचा तुम्हारा लक्ष्य
मेहनत में हो दक्ष
आलस्य से कोसों दूर
जीवटता का प्रतीक हो तुम।

आए कितनी बांधा
तुमने लक्ष्य को साधा
मुड़ के पीछे जो ना देखें
बहते जल कि वो धारा हो तुम।

डिगो ना कभी पथ से
हारो ना कठिनाई से
हर कहे मैं तो हारी
जीत का पताका फहराओ तुम।

हो निष्ठा सच्चाई में
मंत्र, सफल जीवन लड़ाई में
छल कपट की दुनिया में
बनो सच की परिभाषा तुम।

आएगा वह दिन भी
ऊंचा होगा मस्तक भी
बनोगे मानव जाति के
सम्मान का एकदिन प्रतीक तुम।

पूर्णतः मौलिक-ज्योत्स्ना पाॅल।

परिचय - ज्योत्स्ना पाॅल

भारतीय स्टेट बैंक से सेवानिवृत्त भोपाल (म.प्र.) ईमेल - paul.jyotsna@gmail.com