लघुकथा – स्मार्ट प्रतिभाएं

सिर्फ़ 6 लाख रुपये में सोलर पावर्ड ड्राइवरलेस स्मार्ट बस के तैयार होने की बात हमें ही नहीं सबको हैरान करने के लिए काफी है. यह स्मार्ट बस तैयार की है हमारे देश की स्मार्ट प्रतिभाओं ने.
किसी भी देश की, किसी भी उम्र की प्रतिभा हो, वह अपने बलबूते पर देश-दुनिया को स्मार्ट बना देती है. अक्सर हमारे देश की प्रतिभाएं भी समय-समय पर अपने बलबूते पर अपनी स्मार्टनेस का परिचय देती रही हैं, यहां तक कि स्मार्ट बस भी बना देती हैं. हम बात कर रहे हैं पंजाब की लवली प्रफेशनल यूनिवर्सिटी (एलपीयू) के स्टूडेंट्स की.
इन छात्रों ने देश की पहली स्मार्टबस तैयार की है. यह बस न सिर्फ सोलर पावर्ड है बल्कि ड्राइवरलेस भी है. इस गाड़ी को 106वें इंडियन साइंस कांग्रेस (आईएससी) में प्रदर्शित किया गया. पूरी तरह पलूशन-फ्री इस बस की कीमत करीब 6 लाख रुपये है.
”यह बस कैसे चलती है?” हमारा पहला प्रश्न था.
”सौर ऊर्जा की मदद से इलेक्ट्रिक एक मोटर इस बस को चलाने में सक्षम है.” प्रतिभाओं का उत्तर था.
”प्रदूषण?” हमारी अगली जिज्ञासा थी.
”सौर ऊर्जा में प्रदूषण का भला क्या काम? बिलकुल प्रदूषण फ्री.” स्मार्ट प्रतिभाओं का स्मार्ट जवाब था.
”गति?” हमारी जिज्ञासा की रफ़्तार भला कहां रुकने वाली थी!
”30 किलोमीटर प्रति घंटे की स्पीड से बिना ड्राइवर के चल सकती है.” प्रतिभाओं ने चौंकाया.
”इस बस को प्रोगाम करने में कितना समय लगा?” हमारी स्वाभाविक जिज्ञासा थी.
”12 महीने.” स्मार्ट प्रतिभाओं ने हमें हैरान करने में कोई कसर नहीं छोड़ी थी.
”अन्य कोई विशेष विवरण?” हमारे प्रश्न आगे बढ़ रहे थे.
”एक बार फुल चार्ज होने के बाद इस बस में 10 से 30 लोग 70 किलोमीटर तक का सफर तय कर सकते हैं.” प्रतिभाएं मुखर थीं.
”नियंत्रण?” हमारा आखिरी प्रश्न था.
”यह बस जीपीएस और ब्लूटूथ का प्रयोग नेविगेशन के लिए करती है. इसे 10 मीटर के दायरे में रहकर भी कंट्रोल किया जा सकता है.” स्मार्ट प्रतिभाओं की स्मार्टनेस पराकाष्ठा पर थी.
इसके बाद तो हमारा उस स्मार्टबस में बैठकर सफर (यात्रा) करना ही बाकी था।

परिचय - लीला तिवानी

लेखक/रचनाकार: लीला तिवानी। शिक्षा हिंदी में एम.ए., एम.एड.। कई वर्षों से हिंदी अध्यापन के पश्चात रिटायर्ड। दिल्ली राज्य स्तर पर तथा राष्ट्रीय स्तर पर दो शोधपत्र पुरस्कृत। हिंदी-सिंधी भाषा में पुस्तकें प्रकाशित। अनेक पत्र-पत्रिकाओं में नियमित रूप से रचनाएं प्रकाशित होती रहती हैं।