बाल गीत – मां

मां ने हमको जन्म दिया है,
पाल-पोसकर बड़ा किया है,
देकर सद्गुण मां ने हम पर,
सच में बड़ा उपकार किया है.
मां ममता का सागर होती,
अंबर-सा विस्तार मां होती,
उसकी महिमा कही न जाए,
आनंद का आधार मां होती.
मां हम तेरा मान रखेंगे,
आंच न तुझ पर आने देंगे,
समय विकट आया जो कभी तो,
जान भी हम कुर्बान करेंगे.

परिचय - लीला तिवानी

लेखक/रचनाकार: लीला तिवानी। शिक्षा हिंदी में एम.ए., एम.एड.। कई वर्षों से हिंदी अध्यापन के पश्चात रिटायर्ड। दिल्ली राज्य स्तर पर तथा राष्ट्रीय स्तर पर दो शोधपत्र पुरस्कृत। हिंदी-सिंधी भाषा में पुस्तकें प्रकाशित। अनेक पत्र-पत्रिकाओं में नियमित रूप से रचनाएं प्रकाशित होती रहती हैं।