जिज्ञासा

चीं चीं करती चिड़िया तुम
जा रहे हो किधर उड़कर,
बताके जाओ मुझे यह बात
क्षणभर मेरे पास रुक कर।

समय नहीं है अभी मेरे पास
लाना है मुझे तिनका चुनकर,
बना लूं पहले घोंसला अपना
फिर बातें करूं तुमसे मिलकर।

किधर जाते हो मधुमक्खी तुम
गुन-गुन गुन-गुन गाना गाकर,
एक बार बताके जाओ मुझको
चकित हूं मैं तुम्हारी व्यस्तता पर।

अभी समय नहीं है मेरे पास
लाना है मुझे शहद इकट्ठा कर,
पुष्प वन में जा रहे हम सब
मधुकर एक साथ मिलकर।

छोटी-छोटी चिटियां बता जाओ
जा रहे हो कहा दलबद्ध होकर,
मन में बड़ी जिज्ञासा है बताओ
क्या ढूंढ रहे हो तुम सब मिलकर?

आ रहा है ठंड का मौसम
रखना है हमें भोजन एकत्र कर,
ठंड से बहुत ही डर लगता है
नहीं आएंगे हम घर से निकल कर।

तुम भी जाओ पढ़ो किताबें
दिखाओ सब को कुछ बनकर,
समय होता है कीमती बहुत
यह समय ना आएगा लौटकर।

तुम हो एक नन्हा बालक
अनेक कर्म तुम्हें है करना,
परिश्रम के बिन संभव नहीं
जग में शीश ऊंचा रखना।

हार नहीं होती उसकी कभी
आलस्य से जो दूर रहता,
सफलता कदम चूमे उसकी
जग में अमर नाम हो जाता।

पूर्णतः मौलिक-ज्योत्स्ना पाॅल।

परिचय - ज्योत्स्ना पाॅल

भारतीय स्टेट बैंक से सेवानिवृत्त भोपाल (म.प्र.) ईमेल - paul.jyotsna@gmail.com