समाचार

क्रिएट प्रोजेक्ट ने निकाली जागरूकता रैली

मोहितसिंह द्वारा विकलांगों, अनाथों, कुष्ठरोगियों के लिए किए जा रहे अथक प्रयत्नों से प्रभावित क्रिएट प्रोजेक्ट ने लखनऊ मण्डल के कार्यक्रम प्रबंधक की ज़िम्मेदारी मोहित सिंह को देना निश्चित किया है। विश्व कुष्ठ दिवस के अवसर पर क्रिएट प्रोजेक्ट द्वारा लखनऊ में कुष्ठरोगियों सहित विकलांगों, अनाथों की जागरूकता और अधिकार रैली का आयोजन किया गया […]

समाचार

दीपक मेहता के सेवाकार्य

जनवरी माह दीपक मेहता के लिए व्यस्त रहा। इस माह दीपक जी के पूज्य पिताजी का निधन हो गया। दीपक मेहता ने अपने पिताश्री का मरणोपरांत नेत्रदान कर मनुष्य सेवा को बनाए रखा है। जनवरी में दीपक मेहता के अन्य सेवा कार्य – ● डांग के चार स्कूलों में रामदरबार मूर्ति दी। वहां विकलांग हनुमानजी […]

कविता

दोनों पीढ़ियाँ ज़िंदादिल हो

दूरियाँ इतनी ना बढ़ाओ कि पास आना मुश्किल हो क्यूँ ना घर का बच्चा हमारी गुफ्तगू में शामिल हो खुदखुशी का ख़्याल भी कभी ना ज़हन में आए दिल खोल पाएँ ये हमसे विश्वास ऐसा हासिल हो ना जाने कितनी तकलीफ़ें देती है ये नादान उम्र तकलीफ़ें इनकी सुनें घर के बड़े और बड़ा दिल […]

बाल कविता

“रंग-बिरंगे छाते”

धूप और बारिश से, जो हमको हैं सदा बचाते। छाया देने वाले ही तो, कहलाए जाते हैं छाते।। आसमान में जब घन छाते, तब ये हाथों में हैं आते। रंग-बिरंगे छाते ही तो, हम बच्चों के मन को भाते।। तभी अचानक आसमान से, मोटी-मोटी बूँदें आई। प्रांजल ने उतार खूँटी से, छतरी खोली और लगाई।। […]

कविता

माटी का दीप

लालटेन कहे ‘माटी के दीप’ से बहुत छोटा है तेरा आकार, कैसे हटेगा तेरी ज्योति से अमावस का घनघोर अंधकार। छोटी सी कुटिया में रहकर बीत गया तेरा सारा जीवन, बुझ जाती है क्षण भर में तू चलता है जब थोड़ा सा पवन। देख मैं तुझसे कितना बड़ा करता हूं बड़े घर को रोशन, जलता […]

मुक्तक/दोहा

कुम्भ पर दोहे

सुधा गिरा जब कुम्भ से, माया पुरी प्रयाग। उज्जैन नासिक तब से, है पावन भू भाग ॥ सागर से निकला सुधा , ये मंथन का सार। सुधा कैसे पान करे, सभी किये विचार॥ गंगा यमुना शारदा, है साथ में प्रयाग। करने स्नान कुंभ चले, जप दान पुण्य याग॥ माघ सुपावन मास है, कुम्भ करे स्नान॥ […]

मुक्तक/दोहा

मुक्तक

1 बसा है जो मेरे मन में वो अब कहने की बारी है कि मेरे दिल के आईने में बस सूरत तुम्हारी है जो पूछा मैंनें यारों से बताओ क्या हुआ है ये कोई कहता मोहब्बत है कोई कहता बीमारी है 2 नहीं आता समझ में ये कि क्यों ऐसा ही होता है जो होना […]

राजनीति

कांग्रेस का प्रियंका कार्ड – अपना अस्तित्व बचाने का आख़िरी दाँव

कांग्रेस पार्टी व गांधी परिवार ने आगामी लोकसभा चुनावों में अपने दल व परिवार का राजनीति के मैदान में अपना अस्तित्व बचा रखने के लिये आखिरकर अपना प्रियंका रूपी अंतिम कार्ड चल दिया है। कागे्रंस अध्यक्ष राहुल गांधी ने महागठबंधन की ओर से पूरी तरह से प्रधानमंत्री पद से नकारे जाने के बाद अपना यह […]

राजनीति

भारतीय मुसलमान और जनरल करिअप्पा

भारतीय सेना के प्रथम सेनापति जनरल करिअप्पा 1964 में अपने द्वारा लिखित पुस्तक “लेट अस वेक अप” में भारतीय मुसलमानों के विषय में लिखते है- “हमारा एक धर्म निरपेक्ष देश है। मैं मुसलमानों को उतना ही अपना भाई-बहन समझता हूँ, जितना कि भारत के अन्य सम्प्रदायों के लोगों को समझता हूँ। देश में अपनी निरंतर […]

लघुकथा

बेटियां

हमारी बेटी के जन्मदिन पर उसकी सभी सहेलियां सपरिवार आई हुई थीं. बसंती की 80 साल की सासू मां शकुंतला भी उनके पास ऑस्ट्रेलिया आई हुई थीं, हमने उनको भी लाने के लिए उसको विशेष रूप से कह दिया था. सभी बुजुर्गों की तरह वे भी ना-नुकुर कर रही थीं- ”आप सब बच्चों के बीच […]