Monthly Archives: January 2019


  • दीपक मेहता के सेवाकार्य

    दीपक मेहता के सेवाकार्य

    जनवरी माह दीपक मेहता के लिए व्यस्त रहा। इस माह दीपक जी के पूज्य पिताजी का निधन हो गया। दीपक मेहता ने अपने पिताश्री का मरणोपरांत नेत्रदान कर मनुष्य सेवा को बनाए रखा है। जनवरी में...



  • माटी का दीप

    माटी का दीप

    लालटेन कहे ‘माटी के दीप’ से बहुत छोटा है तेरा आकार, कैसे हटेगा तेरी ज्योति से अमावस का घनघोर अंधकार। छोटी सी कुटिया में रहकर बीत गया तेरा सारा जीवन, बुझ जाती है क्षण भर में...

  • कुम्भ पर दोहे

    कुम्भ पर दोहे

    सुधा गिरा जब कुम्भ से, माया पुरी प्रयाग। उज्जैन नासिक तब से, है पावन भू भाग ॥ सागर से निकला सुधा , ये मंथन का सार। सुधा कैसे पान करे, सभी किये विचार॥ गंगा यमुना शारदा,...

  • मुक्तक

    मुक्तक

    1 बसा है जो मेरे मन में वो अब कहने की बारी है कि मेरे दिल के आईने में बस सूरत तुम्हारी है जो पूछा मैंनें यारों से बताओ क्या हुआ है ये कोई कहता मोहब्बत...



  • बेटियां

    बेटियां

    हमारी बेटी के जन्मदिन पर उसकी सभी सहेलियां सपरिवार आई हुई थीं. बसंती की 80 साल की सासू मां शकुंतला भी उनके पास ऑस्ट्रेलिया आई हुई थीं, हमने उनको भी लाने के लिए उसको विशेष रूप...