सिख गुरुओं की शहीदी (भाग-3)

गुरु गोबिंद सिंह जी अपने पिता, नौवें गुरु, गुरु तेग बहादुर जी की शहादत के बाद ग्यारह साल की उम्र में 24 नवंबर, 1675 को गुरु बने। उन्होंने ने घोषणा की कि वह एक ऐसा पंथ बनाएंगे, जो न्याय, समानता और शांति बहाल करने के लिए जीवन के हर क्षेत्र में तानाशाह शासकों को चुनौती देगा।

उन्होंने अपनी आत्मकथा “बाछितर नाटक” (विचित्र नाटक) में लिखा है कि किस तरह और किस उद्देश्य से उन्हें भगवान ने इस संसार में भेजा था। उन्होंने लिखा है कि इस दुनिया में आने से पहले अनंत के साथ एक हो जाने के लिए वह एक स्वतंत्र आत्मा के रूप में सात चोटी वाले हेमकुंड पर्वत पर ध्यान में लगे हुए थे। भगवान ने उन्हें धार्मिकता को आगे बढ़ाने के लिए आज्ञा दी ।
अपने जीवन के पहले 20 वर्षों तक, गुरु गोविंद सिंह शांतिपूर्वक आनंदपुर में रहते थे, एक सैनिक के रूप में अपने प्रशिक्षण को पूरा करने के लिए हथियार और अभ्यास करते थे। उन्होंने फ़ारसी और संस्कृत का भी अध्ययन किया और हिंदू महाकाव्यों का अनुवाद करने के लिए 52 कवियों को शामिल किया। सिखों में सैनिक भावना पैदा करने के लिए प्राचीन नायकों की कहानियों का पंजाबी में अनुवाद किया । गुरु गोविंद सिंह का रचनात्मक साहित्य का अधिकांश काम पांवटा में हुआ था, जिसे उन्होंने यमुना नदी के तट पर स्थापित किया था और जहां अस्थायी रूप से वह आ गए थे । कविता उनके लिए ईश्वरीय सिद्धांत को प्रकट करने और ‘सर्वोच्च शक्ति’ को उजागर करने का एक साधन था। उन्होंने मूर्तिपूजा और अंधविश्वासों और को दूर करते हुए एक ‘सर्वोच्च शक्ति’ की पूजा का उपदेश दिया। तलवार का मतलब कभी आक्रामकता के प्रतीक के रूप में नहीं था, यह पुरुषार्थ और स्वाभिमान का प्रतीक था, और इसे केवल अंतिम उपाय के रूप में आत्मरक्षा में इस्तेमाल किया जाना था। गुरु गोबिंद सिंह ने अपने ज़फरनामा में फ़ारसी में कहा: “जब अन्य सभी साधन विफल हो गए हों तब तलवार उठाना, न्यायसंगत है ।  यहां पांवटा साहब गुरुद्वारा भी स्थापित  किया।

पांवटा में अपने प्रवास के दौरान, गुरु गोबिंद सिंह ने सवारी, तैराकी और तीरंदाजी जैसे विभिन्न प्रकार के सैनिक अभ्यास करने के लिए अपने खाली समय का लाभ उठाया। लोगों के बीच उनके बढ़ते प्रभाव और उन लोगों के सैनिक अभ्यासों से पड़ोसी पहाड़ी राजपूत शासक उनसे ईर्ष्या करने लगे । उन्होंने गढ़वाल के राजा फतेह चंद के नेतृत्व में उन पर हमला करने की योजना बनाई । पहाड़ी राजाओं ने गुरु गोबिंद सिंह की शक्ति को कम करने के लिए मुग़ल सेनाओं के साथ साजिश रची। हालाँकि उन्हें तुलनात्मक रूप से छोटी सिख सेना के हाथों कई बार पराजय का सामना करना पड़ा।

इसके तुरंत बाद गुरु गोबिंद सिंह ने पांवटा साहिब छोड़ दिया और आनंदपुर लौट आए। मुगल कमांडर अलीफ खान की शाही सेना, और गुरु गोबिंद सिंह और उनके सिखों के बीच कांगड़ा से लगभग 30 किलोमीटर दूर ब्यास के बाएं किनारे पर नादौर में युद्ध हुआ। अलीफ खान की सेना को मुंह की खानी पड़ी । पंजाब सहित उत्तर-पश्चिमी क्षेत्र के वायसराय के रूप में उदार सम्राट बहादुर शाह की 1694 में नियुक्ति के बाद, हिन्दुओं  को कुछ  समय के लिए थोड़ी राहत मिली ।

गुरु एक मजबूत स्वाभिमानी समुदाय बनाना चाहते थे। उन्होंने सिखों को साहस और वीरता के साथ और सादगी और कड़ी मेहनत के जीवन के लिए प्रेरित किया। उन्होंने अपने सैनिकों के लिए आवश्यक तलवारों और तीरों के निर्माण के लिए आनंदपुर में एक हथियार कारखाना शुरू किया।

बैसाखी के वार्षिक उत्सव के लिए सिख बड़ी संख्या में आनंदपुर में एकत्रित हुए थे। आनंदपुर में केसगढ़ साहिब में दीवान आयोजित किया गया। गुरु ने अपनी तलवार निकाली और गरजते हुए स्वर में कहा, “मुझे एक सिर चाहिए, क्या कोई ऐसा है जो मुझे चढ़ा सकता है?”

इस सबसे सभा में कुछ आतंक पैदा कर दिया और लोग स्तब्ध रह गए। मृत सन्नाटा था। गुरु ने दूसरा आह्वान किया। कोई भी आगे नहीं आया। अभी और सन्नाटा था। तीसरे आह्वान पर लाहौर के एक खत्री दया राम ने कहा, “हे सच्चे राजा, मेरा सिर आपकी सेवा में है।” गुरु ने दया राम को बांह से पकड़ लिया और एक तंबू के भीतर ले गए। एक झटका और गड़गड़ाहट सुनाई दी। तब गुरु, बाहर आए उनकी तलवार से खून टपक रहा था, उन्होंने कहा, “मुझे एक और सिर चाहिए, क्या कोई ऐसा व्यक्ति है जो ऐसा कर है?” तीसरी पुकार पर  दिल्ली के एक जाट धरम दास आगे आए।  गुरु ने धर्म दास को डेरे के अंदर ले लिया, फिर से एक झटका और गड़गड़ाहट सुनाई दी, और वह अपनी तलवार से खून से लथपथ बाहर आए।  गुरु जी हर बार ऐसा करते और सर देने को राजी व्यक्ति को अंदर ले जाने के बाद अकेले खून से सनी तलवार लेकर बाहर आते । बाहर बैठे व्यक्तियों को लग रहा था की गुरु जी ने उनका सर काट दिया है। तीसरी बार  द्वारका के एक दर्जी मोहकम चंद, चौथी बार जगन नाथ पुरी के रसोइए हिम्मत चंद, पांचवीं बार बीदर (मध्य भारत में) के एक नाई साहिब चंद ने खुद को चौथे बलिदान के रूप में पेश किया। तब गुरु आगे आए और उन्हें तम्बू के अंदर ले गए।

थोड़ी देर बाद सभी को बाहर लाया गया, तो उनके चेहरे पर अनोखी चमक थी। हर तरफ अचरज और विलाप की आहट थी। अब लोगों को सिर न चढ़ाने का अफसोस था।

गुरु ने अब अपने पांच सेवकों को शानदार वस्त्र भेंट किये। उन्होंने अपने सिर गुरु को अर्पित कर दिए थे, और गुरु ने अब उन्हें स्वयं और उनकी महिमा बताई थी। उन्होंने एक लोहे के बर्तन में शुद्ध पानी डाला और खंडा  (दो धार वाली छोटी तलवार) से इसे हिलाया। खंडा के साथ पानी को हिलाते हुए, उन्होंने गुरबानी का पाठ किया। पताशा (शक्कर के बड़े बड़े टुकड़े )जो कि गुरु की पत्नी, माता साहिब कौर, जो उस समय लाया था, पानी में मिलाया गया था। उन्होंने प्रत्येक को पीने के लिए इस अमृत को एक ही कटोरे से पांचों वफादार को पिलाया गया । उसके बाद उन्होंने खालसा की जातिविहीन बिरादरी में उनकी दीक्षा को इंगित करने के लिए उन्हें उसी कटोरे से अमृत पिलाने के लिए कहा। सभी पांचों वफादारों को  इस तरह से सिख (शिष्य) बनाया गया , जिन्हें  उन्होंने  ‘पंज प्यारे’ या पांच प्यारे कहा। उन्होंने उन्हें सिंह(शेर) की उपाधि दी और उनका नाम दया राम से दया सिंह, धर्म दास से धर्म सिंह, मोहकम चंद से मोहकम सिंह, हिम्मत चंद से हिम्मत सिंह, और साहिब चंद से साहिब सिंह रखा गया। गुरु ने तब शुद्ध लोगों के रूप में उन्हें खालसा (खालिस=शुद्ध) नाम दिया ।

अपने पाँच प्यारे लोगों को गुरु ने, उसी तरह से खालसा बनाने के लिए विनती की जैसे उन्होंने उन्हें बनाया था ।  वे स्वयं उनके शिष्य बन गए उन्होंने खालसा गुरु है और गुरु खालसा है। आपमें और मुझमें कोई अंतर नहीं है। गुरु को तब गोबिंद राय की जगह गोबिंद सिंह नाम दिया गया था। गुरू गोविंद सिंह, पाँच प्यारे लोगों से अमृत लेने वाले पहले व्यक्ति थे। आनंदपुर में कुछ दिनों के भीतर लगभग 80,000 पुरुषों और महिलाओं को खालसा बनाया  गया । खालसा का निर्माण गुरु का सबसे बड़ा काम था। । खालसा अत्याचार के खिलाफ प्रतिरोध का प्रतीक था। गुरु ने खुद को खालसा का सेवक माना। एक दिव्य दूत, एक योद्धा, एक कवि और एक दार्शनिक, गुरु गोबिंद सिंह जी ने खालसा बिरादरी की संस्था और पवित्र ग्रंथ, गुरु ग्रंथ साहिब जी के समापन के साथ, सिख धर्म को अपने वर्तमान आकार में ढाला।

जहां एक और खालसा के निर्माण से सिखों और उनके समर्थकों में एकता की भावना पैदा हुई उनकी ताकत, आनंदपुर साहिब में लगातार सभाओं और कई हजारों मण्डली की उपस्थिति, हथियारों से लैस शिवालिक पहाड़ियों के राजपूत प्रमुखों स्थानीय शासकों को रास नहीं आई । गुरु की सेनाएँ संख्या में और आयुध में खतरनाक हो रही थीं। खालसा की रचना से भेदभाव न करने की बात उन्हें नागवार गुजरी, वे सिखों को निचली जाति के लोगों के रूप में मानते थे जिन्होंने कोई अधिकार नहीं था ।

गुरु गोविंद सिंह को उनकी पहाड़ी गढ़ से जबरन निकालने के लिए। 1700-04 के दौरान उनके बार-बार किए गए अभियान बेकार साबित हुए। पहाड़ी राजाओं के लिए खालसा सेना बहुत मजबूत थी। इसलिए उन्होंने बिलासपुर के राजा के नेतृत्व में रैली की, उन्होंने आखिरी बार सम्राट औरंगजेब की मदद के लिए याचिका दायर की। औरंगजेब के आदेशों तहत, लाहौर के गवर्नर और सरहिंद की फौज द्वारा आनंदपुर में मार्च 1705 में किले की घेराबंदी की गयी ।

महीनों तक नाकाबंदी, अपर्याप्त मात्रा में भोजन के बावजूद गुरु और उनके सिखों ने हार नहीं मानी। लाहौर के गवर्नर भी सिखों की हिम्मत से थक गए थे। उन्होंने लगातार हमलों को रोक दिया। जहां घिरे हुए सिखों को   मुगलों ने कुरआन की कसम खाकर कहा की बाहर आ जाने पर उन्हें सुरक्षित निकल जाने दिया जाएगा । कई सिखों को निकाल दिया जाने के बाद शहर को खाली कर दिया गया था। जैसे ही गुरु और उनके सिख बाहर आए, पहाड़ी राजा और उनके मुगल सहयोगियों ने पूरे सैन्य बल के साथ कुरआन की कसम को दरकिनार करते हुए उन पर हमला किया।

गुरु जी , उनके चार पुत्रों, माता की शहादत अगले भाग में….

 

परिचय - रविन्दर सूदन

शिक्षा : जबलपुर विश्वविद्यालय से एम् एस-सी । रक्षा मंत्रालय संस्थान जबलपुर में २८ वर्षों तक विभिन्न पदों पर कार्य किया । वर्तमान में रिटायर्ड जीवन जी रहा हूँ ।