गीत (लावणी छंद)

अंध भाव व्यापक समाज में ,जीभ है चाटुकारी में ।
झूठ ,दिखावा औ फरेब ही ,बस है दुनियादारी में ।

कोर्ट ,कचहरी पुलिस महकमें ,चलते सभी सबूतों पर ।
बड़े बड़े पद पा सकते हैं ,रिश्वत के बल बूतों पर ।
करते हैं उत्थान की बातें ,लिप्त हुए मक्कारी में।
झूठ ,दिखावा औ फरेब ही ,बस है दुनियादारी में ।

स्वयं की कुंठा और कुरीति ,छिपा रहे हैं पर्दे में ।
बहन बेटियों की इज्जत को ,उड़ा धूल अरु गर्दे में ।
न्याय बाँध नैनों पर पट्टी ,बैठा है लाचारी में ।
झूठ ,दिखावा औ फरेब ही ,बस है दुनियादारी में ।

धरती सबकी अम्बर सबका ,राग द्वेष फिर फैला क्यों ।
धोते धोते पाप मनुज के ,गंगा का जल मैला क्यों ।
जग के तुम ही खेवनहारे ,रहो न इस हुशियारी में ।
झूठ ,दिखावा औ फरेब ही ,बस है दुनियादारी में ।

— रीना गोयल ( हरियाणा)

परिचय - रीना गोयल

माता पिता -- श्रीओम प्रकाश बंसल ,श्रीमति सरोज बंसल पति -- श्री प्रदीप गोयल .... सफल व्यवसायी जन्म स्थान - सहारनपुर .....यू.पी. शिक्षा- बी .ऐ. आई .टी .आई. कटिंग &टेलरिंग निवास स्थान यमुनानगर (हरियाणा) रुचि-- विविध पुस्तकें पढने में रुचि,संगीत सुनना,गुनगुनाना, गज़ल पढना एंव लिखना पति व परिवार से सन्तुष्ट सरल ह्रदय ...आत्म निर्भर