सिख गुरुओं की शहीदी (अंतिम भाग-5)

उसी शाम सरहिंद का एक जौहरी दीवान टोडर मल, नवाब वजीर खान के दरबार में दो साहिबजादों और माता गुरुजी के शवों के अंतिम संस्कार के लिए उनके शवों को लेने के लिए पहुंचा। नवाब इस शर्त पर सहमत हुआ कि जितनी जमीन चाहिए उतने सोने के सिक्के जमीन पर बिछा कर जमीन ले सकते हो । टोडर मल ने जमीन पर सोने के सिक्के बिछाने के बाद, श्री गुरु गोबिंद सिंह जी के दो शहीद जवान बेटों का, उनकी दादी के साथ पूरे सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया ।

साहिबजादों की शहादत की खबर फैलते ही देश में पीड़ा की लहर दौड़ गई। श्री गुरु गोबिंद सिंह जी माछीवाड़ा के जंगलों में  थे, जब उनके छोटे बेटों की शहादत की खबर उनके पास पहुँची थी । श्री गुरु गोबिंद सिंह जी ने अपने अनुयायियों को संबोधित किया और उनके मुख से यह उदगार प्रगट हुए “चार मुए तो क्या हुआ जीवित कई हजार”  अर्थात   मेरे हजारों बेटे अभी भी जीवित हैं, मेरे चार बेटे वाहे गुरु में शामिल हो गए । गुरु जी ने सभी सिखों को अपने बेटे और बेटियों के रूप में स्वीकार किया।

गुरु जी मालवा के बीच स्थित दीना पहुँच गए । वहाँ उन्होंने ब्रार वंश के कुछ सौ योद्धाओं को शामिल किया, और फारसी कविता में प्रसिद्ध रचना , ज़फरनामा (विजय का महाकाव्य) की रचना की, , सम्राट औरंगजेब को संबोधित किया। पत्र में सम्राट और उनके  कमांडरों पर  एक गंभीर अभियोग था, कि उन्होंने कुरआन कि कसम तोड़ दी थी । आनंदपुर में अपने किलेबंदी की सुरक्षा से बाहर होने पर उन्होंने गुरु गोविंद सिंह पर हमला किया था । सिखों में से दो, दया सिंह और धरम सिंह, ज़फरनामा के साथ दक्षिण में अहमदनगर गए, और फिर उसे उस शहर में औरंगजेब को देने के लिए शिविर में पहुँचाया गया। दीना से गुरु गोबिंद सिंह ने अपनी यात्रा जारी रखी, जब तक उन्हें पता नहीं चल गया कि बादशाह आस पास के इलाके में ही है । अंतिम निर्णायक निर्णय के लिए खिदराने के कुंड के पास उन्होंने मोर्चा संभाला ।

29 दिसंबर 1705 को मुगलों और गुरु जी बीच का युद्ध आर या पार कि लड़ाई थी । भारी संख्या के बावजूद, मुगल सेना गुरु को पकड़ने में विफल रही और उन्हें शर्मनाक हार का सामना करना पड़ा।

इस लड़ाई में प्रमुख भूमिका 40 सिखों के एक समूह द्वारा निभाई गई थी जिन्होंने लंबी घेराबंदी के दौरान आनंदपुर में गुरु को छोड़ दिया था, लेकिन घर आने पर उनकी पत्नियों उन्हें बहुत फटकार लगाई कि गुरु को इस संकट कि स्थिति में क्यों छोड़ आये ।एक बहादुर और समर्पित महिला, माई के नेतृत्व में वह ४० सिख वापस आ गए थे । वे गुरु की को बचाने के लिए जी-जान से लड़ रहे थे। गुरु कि तरफ बढ़ते मुगलों से युद्ध करते हुए वह ४० सिख वहीँ शहीद हो गए  । गुरु जी ने उन्हें ४० मुक्ते कहा, याने जिनकी मुक्ति हो गयी । आज भी हर अरदास (गुरु ग्रन्थ साहब के पाठ के पश्चात की गयी प्रार्थना) में उन ४० मुक्तों और चार शाहजादों और उन सभी शहीदों को सम्मिलित किया जाता है।  इस स्थल पर एक गुरुद्वारा और एक तालाब है । इस स्थान के चारों और बसे शहर का नाम मुक्तसर है ।

लक्खी जंगल प्रदेश में कुछ समय बिताने के बाद, गुरु गोबिंद सिंह 20 जनवरी 1706 को दमदमा साहिब कहे जाने वाले तलवंडी साबो पहुंचे। नौ महीने से अधिक समय तक वहाँ रहने के दौरान, कई सिखों को उन्होंने फिर से शामिल किया। उन्होंने सिख ग्रंथ, गुरु ग्रंथ साहिब का एक नया पाठ, प्रसिद्ध विद्वान भाई मणि सिंह से लिखवाया  जिन्होंने गुरु की बानी लिखी थी।

दीना से गुरु गोबिंद सिंह द्वारा भेजे गए ज़फ़रनामा ने सम्राट औरंगजेब का हृदय परिवर्तन कर दिया । औरंगजेब ने उन्हें एक बैठक के लिए आमंत्रित किया। इतिहास के अनुसार, बादशाह ने लाहौर के डिप्टी गवर्नर मुनीम खान को पत्र लिखा कि वे गुरु से मिलें और उनकी दक्षिण की यात्रा के लिए आवश्यक व्यवस्था करें।

गुरु गोबिंद सिंह 30 अक्टूबर 1706 को दक्षिण के लिए रवाना हुए थे। वे राजस्थान के बाघोर के पड़ोस में थे, जब 20 फरवरी 1707 को अहमदनगर में औरंगजेब की मृत्यु का समाचार आया। गुरु ने शाहजहानाबाद (दिल्ली) होते हुए पंजाब लौटने का फैसला किया । यही वह समय था जब मृतक सम्राट के बेटे, उत्तराधिकार की लड़ाई लड़ने की तैयारी कर रहे थे।

गुरु गोविंद सिंह ने सबसे बड़े दावेदार, राजकुमार बहादुर शाह, को सम्राट बनने में मदद के लिए सिखों के एक दल को भेजा, जिन्होंने जाजू की लड़ाई में (8 जून 1707), अन्य दावेदारों को हराकर, उसे सम्राट बनाने में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाई । नए सम्राट बहादुर शाह ने 23 जुलाई 1707 को आगरा में होने वाली बैठक के लिए गुरु गोबिंद सिंह जी को आमंत्रित किया।

सम्राट बहादुर शाह को अम्बर (जयपुर) के कछवाहा राजपूतों और दक्षिण में अपने छोटे भाई काम बक्श के विद्रोह को कुचलना था । गुरु जी उसके थे । रास्ते में, गुरु गोविंद सिंह, गुरु नानक जी के उपदेश लोगों को सुनाते हुए गए । जून 1708 में दोनों ने अपने सैन्य दल के साथ ताप्ती नदी और बाण गंगा को अगस्त में पार करते हुए गोदावरी नदी के  तट पर बसे नांदेड़ में प्रवेश किया ।

बहादुर शाह दक्षिण में आगे बढ़े, गुरु गोविंद सिंह ने नांदेड़ में थोड़ी देर रुकने का फैसला किया। यहां उनकी मुलाकात एक बैरागी (मोह माया से दूर रहने वाले व्यक्ति) माधो दास से हुई, जो गुरु जी से बहुत प्रभावित हुआ, उसे उन्होंने सिखों के साथ खालसा पंथ में शामिल किया और उसका नाम उन्होंने बंदा सिंह रखा। गुरु गोविंद सिंह ने अपने चुने हुए सिखों में से बंदा सिंह को अपने स्वयं के तरकश और एक अनुरक्षण से पांच तीर दिए, और उसे पंजाब जाने और प्रांतीय अधिपतियों के अत्याचार के खिलाफ अभियान चलाने का निर्देश दिया।

सरहिंद के नवाब वज़ीर खान  को दक्षिण में सम्राट बहादुर शाह के साथ गुरु गोबिंद सिंह   की मित्रता देखकर बहुत ईर्ष्या हुई । उसे अपने भविष्य की चिंता सताने लगी कि कहीं सम्राट बहादुर शाह उसे सजा ना दें ।  इससे पहले कि सम्राट के साथ उनकी बढ़ती दोस्ती से उसे कोई नुकसान हो और उसने  अपने दो विश्वस्त लोगों को आदेश दिया कि वे गुरु की हत्या करें । ये दो पठान जमशेद खान और वासिल बेग, ने गुरु का गुप्त रूप से पीछा किया ।  गुरु नांदेड़ में प्रार्थना के बाद आराम कर रहे थे । उनमें से एक ने गुरु को दिल के नीचे की ओर छुरा घोंपा इससे पहले कि वह दूसरा झटका दे पाता, गुरु गोविंद सिंह ने उस पर कृपाण से वार कर दिया, जबकि उसका भागने वाला साथी जो शोर सुनकर भाग रहा  था, सिखों द्वारा मार दिया गया ।

जैसे ही खबर बहादुर शाह के शिविर में पहुंची, उन्होंने गुरु के लिए विशेषज्ञ वैद्य भेजे। सरहिंद का नवाब वज़ीर खान, गुरु के प्रति सम्राट के लगाव को देखकर बहुत दुखी हुआ ।

गुरु जी के घाव में यूरोपियन वैद्य ने टाँके लगाए, घाव भर गया था । एक दिन गुरु जी ने मजबूत धनुष पर बाण चढ़ाया, तो घाव से रक्तस्त्राव होने लगा । वैद्य ने फिर टाँके लगाए पर खून बहना बंद नहीं हुआ । गुरु जी को पता चल गया कि परम पिता की ओर से बुलावा आ गया है । उन्होंने अपने प्रस्थान के लिए सिखों को बुलवाया । तत्काल मुख्य सेवादारों को निर्देश दिए गए और आखिरकार उन्होंने अपने मिशन का आखिरी और स्थायी संदेश खालसा को दिया।

उनका सन्देश था ईश्वर प्रेम नहीं करता, वह स्वयं ही प्रेम है, प्रेम करने से मनुष्य प्रेम के स्त्रोत प्रभु से जुड़ जाता है, “जिन प्रेम कियो तिन्ह ही प्रभु पायो” उन्होंने ग्रन्थ साहिब खोला, पाँच पैसे रखे और  अपने उत्तराधिकारी के रूप में इसे प्रणाम किया, ‘वाहेगुरु जी की खालसा, वाहेगुरु जी की फतेह’ कहते हुए, उन्होंने गुरु ग्रंथ साहिब के चारों ओर घूमकर स्वरचित  भजन गाया, घोषणा की  ” आज्ञा भई अकाल की , तभी चलायो पंथ, सब सिखन को हुकुम है, गुरु मान्यो ग्रन्थ , गुरु ग्रन्थ जी मान्यो, प्रगट गुरां कि देह , जॉ का हिरदा (हृदय) शुद्ध है,  खोज शबद में लेह”,  (ग्रन्थ को ही गुरु कि देह मानें, जिसका हृदय शुद्ध है, वह शब्दों में ही उसे खोज लेगा) ।

गुरु  07  अक्टूबर  1708  को अब्चल  नगर,  हुजूर  साहेब,   नांदेड़  (महाराष्ट्र)  में परम पिता के घर  के लिए रवाना  हो गए। सिखों ने उनके अंतिम संस्कार की तैयारी की, जैसा कि उन्होंने उन्हें निर्देश दिया था, सोहिला का जाप  किया गया और प्रसाद  वितरित किया गया ।

बंदा बहादुर ने भरतपुर में डेरा डाला और स्थानीय लुटेरों से एक गांव के लोगों को मुक्त कराया । इसके बाद उसने सोनीपत   और कैथल की लड़ाई लड़ी और उन्हें विजय पाई । समाना की लड़ाई में बंदा बहादुर ने शानदार जीत हासिल की । समाना में भूमि सुधारों को लागू किया, जमींदारी प्रथा को समाप्त  किया । इसके बाद उसने मलेरकोटला, घुरम, केशर, शाहाबाद अंबाला, मुस्तफाबाद, नाहन, कापुरी में लड़ाई लड़ी और  विजय पाई । उसने राहों (1710) की लड़ाई लड़ी. तदुपरांत बंदा बहादुर  ने सधौरा की लड़ाई लड़ी और फौजदार उस्मान खान को मार गिराया । छप्पर  छिरी की लड़ाई में मुगल सेना को हराया,  सिख जनरल फतेह सिंह ने वज़ीर खान को हरा दिया । पंजाब में समाना और सधौरा के शहरों को बर्बाद करने के बाद, वे सरहिंद की ओर चले गए और मुगल सेनाओं की  हार के बाद, बंदा बहादुर  ने दीवान सुच्चा नन्द, जो बच्चों को क्रूरता  से मारने कि वकालत कर रहा था और  सरहिंद के वजीर खान, जिसने बच्चे शहीद किये थे, का सिर काट दिया ।

 

एक अन्य मुस्लिम प्रशंसक, रायकोट के राय काल्हा से मित्रता करते हुए, गुरु गोबिंद सिंह ने आभार में राय काल्हा को अपनी तलवार भेंट की थी । तलवार के दोनों तरफ लिखा हुआ है , AKAL PURKH ………., EK ONKAR SATGUR PARSAD… इत्यादि। ये पंक्तियाँ गुरु द्वारा बनाई गई मुहर पर  भी  अंकित थी, महाराजा रंजीत  सिंह  द्वार भी यह पंक्तियाँ उनके सिक्कों पर लिखवाई गयी  । तलवार, महाराजा रणजीत सिंह के पास से होते हुए  1 मई 1849 को, अन्य हथियारों  तलवार और ढाल, नेज़ा, तेग , भाला, बरछी इत्यादि के साथ  ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा लॉर्ड डलहौजी के आदेश के तहत इंग्लैंड भेज दी गयी ।

 

प्रसिद्ध हिंदी कवि, मैथिलि शरण गुप्त ने अपनी बहुचर्चित पुस्तक भारत भारती में कहा है: “उनकी वर्तमान स्थिति जो भी हो, उस समुदाय का भविष्य जिनके बेटे इस प्रकार अपने विश्वास के लिए अपना जीवन लगा सकते हैं, गौरवशाली है।”

 

परिचय - रविन्दर सूदन

शिक्षा : जबलपुर विश्वविद्यालय से एम् एस-सी । रक्षा मंत्रालय संस्थान जबलपुर में २८ वर्षों तक विभिन्न पदों पर कार्य किया । वर्तमान में रिटायर्ड जीवन जी रहा हूँ ।