साढ़े तीन मिनट

बिलकुल ठीक हो जाने के बाद दीपक को अपने बीते दिनों की याद आ रही थी.
भीषण ठंड के मौसम में दीपक को रात में अक्सर 2-3 बार लघुशंका के लिए उठना पड़ता था. बिस्तर से उठने के बाद वह एकदम चल पड़ता था. कई बार वह रात को गिरते-गिरते बचा था. उसने सुना भी था, कि अधिकतर हार्ट अटैक रात में ही होते हैं. अब तो उसे डॉक्टर के पास जाना ही था.
डॉक्टर ने जरूरी जांच के बाद उसको हार्ट अटैक की संभावना से इनकार नहीं किया था. उसे जरूरी दवाओं के सार्ह जरूरी हिदायतें देना भी अपना कर्त्तव्य समझा था.
”ठंड के कारण शरीर का ब्लड गाढ़ा हो जाता है तो वह धीरे धीरे कार्य करने के कारण पूरी तरह हार्ट में नहीं पहुँच पाता और शरीर छूट जाता है. इसी कारण से सर्दी के महीनों में 45 वर्ष से ऊपर के लोगों की ह्रदयगति रुकने से दुर्घटनाएं अत्यधिक होती पाई गई हैं, इसलिए हमें सावधानी अत्यधिक बरतने की आवश्यकता है.” डॉक्टर ने कहा था.
”हमें क्या सावधानियां रखनी चाहिएं?” दीपक का प्रश्न स्वाभाविक था.
”साढ़े तीन मिनट का प्रयास एक उत्तम उपाय है.
1. नींद से उठते समय आधा मिनिट गद्दे पर लेटे हुए रहिए.
2. अगले आधा मिनट गद्दे पर बैठिये.
3. अगले ढाई मिनट पैर को गद्दे के नीचे झूलते छोड़िये.
साढ़े तीन मिनट के बाद आपका मस्तिष्क बिना खून का नहीं रहेगा और ह्रदय की क्रिया भी बंद नहीं होगी! इससे अचानक होने वाली मौतें भी कम होंगी.” डॉक्टर ने अपनी राय जाहिर की थी.
दीपक ने साढ़े तीन मिनट के उपाय को रट लिया था और त्वरित ही उसका अनुसरण करने लग गया था.

परिचय - लीला तिवानी

लेखक/रचनाकार: लीला तिवानी। शिक्षा हिंदी में एम.ए., एम.एड.। कई वर्षों से हिंदी अध्यापन के पश्चात रिटायर्ड। दिल्ली राज्य स्तर पर तथा राष्ट्रीय स्तर पर दो शोधपत्र पुरस्कृत। हिंदी-सिंधी भाषा में पुस्तकें प्रकाशित। अनेक पत्र-पत्रिकाओं में नियमित रूप से रचनाएं प्रकाशित होती रहती हैं।