गीतिका/ग़ज़ल

गजल

सहज लिखुँगा , सरल लिखुँगा
भाव हृदय के , तरल लिखुँगा ।।

बड़े सघन हैं , पीड़ सुपथ के
किन्तु पन्नों पर , विरल लिखुँगा ।।

अधरों पे रखी , झूठी तारीफें
इनको नीति का , गरल लिखुँगा ।।

जब मीत , सखा , शत्रु , सब अपने
‘समर’ नहीं वह सरल , लिखुँगा ।।

पुछो पीछे पुँजी , क्या छोड़ी ??
मैं आँखों का , तरल लिखुँगा ।।

तासीर कलम की ना बदलेगी
शहद लिखुँ या , गरल लिखुँगा ।।

समर नाथ मिश्र

One thought on “गजल

  1. गजल अच्छी है, पर काॅमा और विराम से पहले स्पेस नहीं दिया जाता, केवल बाद में दिया जाता है।

Leave a Reply