हिंद का गांव

शरीर बसा दूर देश में
किंतु मन में बसा हिंद के गांव है,
जहां की बोली में सरलता
और जीवन में सहजता का भाव है।

माटी की पगडंडी पर
जब बारिश की पहली बूंदें गिरती है
सोंधी सोंधी महक उसकी
तन- मन को पागल कर जाती है।

मन आंगन में स्नेह की धूप
तन को आह्लदित कर देती है,
फिर खिलकर पुष्प कलियां
रंग बिरंगे चित्र उकेर जाती है।

सहज, सरल, मधुर भाषा
कानों में मधुरस घोल देती है,
इतनी भाषाएं व बोलियां
और कहीं, कहां मिल पाती है।

सुबह, सवेरे जब कोई
संगीत का मधुर तान छेड़ता है
मन चंचल क्षण भर को
शांत होकर वहीं ठहर जाता है।

इतने उत्सव साल भर
भला कौन सा देश मनाता है,
रंग बिरंगे परिधान इतने
कोई भी देश वासी कहां पहनता है।

भाषाएं अनेक फिर भी एक
एकता का मिसाल हिंद की भूमि है,
लगा माथे माटी तिलक
झुक कर किसने अपनी माटी चूमी है।

बहुत पुरानी संस्कृति हमारी
पुरानी अद्वितीय हमारी सभ्यता है,
सोने की चिड़िया जानी जाती
अतुलनीय हमारी यह भव्यता है।

उठता ऐसा भावना का ज्वार
अपना देश तब याद बहुत आती है,
बैठकर दूर देश तब
अपनों की याद बहुत सताती है।

पूर्णतः मौलिक-ज्योत्स्ना पाॅल।

परिचय - ज्योत्स्ना पाॅल

भारतीय स्टेट बैंक से सेवानिवृत्त भोपाल (म.प्र.) ईमेल - paul.jyotsna@gmail.com