गीतिका – पर्यावरण

आओ मिलकर शपथ लें पर्यावरण बचाएं हम।
चहुंओर हरियाली हो प्रकति को सुंदर बनाएं हम।

ताजी, ठंडी, खुली हवा मिले मन में हो खुशहाली,
भारत भूमि के कण-कण में हरियाली फैलाएं हम।

मनभावन पृथ्वी ये प्यारी सुंदर हरे-भरे हो खेत,
धरती की पावन मिट्टी लेकर बीज उगाएं हम।

नव-पल्लव अंकुरित हुए कलियाँ भी खिलने लगी,
उपवन में खिले फूल और गुलज़ार सजाएं हम।

मंद बयार चले पुरवैया सौधी-सौधी खुशबू फैले,
रंगीन है फिजायें और मौसम में बहार लाएं हम।

पेड़ काटना बंद करो न करो प्रकति से खिलवाड़,
दस पेड़ लगाओ सब, घर-घर अलख जगाएं हम।

खुशनुमा वातावरण हर्षोल्लास है आज मेरा मन,
हर्षित हो झूमें मन मेरा खुशियों के गीत गाएँ हम।

सुमन अग्रवाल “सागरिका”
आगरा

परिचय - सुमन अग्रवाल "सागरिका"

पिता का नाम :- श्री रामजी लाल सिंघल माता का नाम :- श्रीमती उर्मिला देवी शिक्षा :-बी. ए. ग्रेजुएशन व्यवसाय :- हाउस वाइफ प्रकाशित रचनाएँ :- अनेक पत्र- पत्रिकाओं में निरन्तर प्रकाशित। सम्मान :- गीतकार साहित्यिक मंच द्वारा श्रेष्ठ ग़ज़लकार उपाधि से सम्मानित, प्रभा मेरी कलम द्वारा लेखन प्रतियोगिता में उपविजेता, ताज लिटरेचर द्वारा लेखन प्रतियोगिता में तृतीय स्थान, साहित्य सुषमा काव्य स्पंदन द्वारा लेखन प्रतियोगिता में तृतीय स्थान, काव्य सागर द्वारा लेखन प्रतियोगिता में श्रेष्ठ कहानीकार, साहित्य संगम संस्थान द्वारा श्रेष्ठ रचनाकार सम्मान, सहित्यपिडिया द्वारा लेखन प्रतियोगिता में प्रशस्ति पत्र से सम्मानित। आगरा