कविता

एक यार मिला

मुझे भी एक यार मिला
वो मेरे दिल का सरताज मिला
करता है वो दिल की बाते
ऐसा पहली बार मिला

उस की खुशबू चन्दन लगती
उस के पास ही खुदाई बसती
उस से मिल कर दुनिया मिलती
उस के प्यार में खुशियाँ मिलती

उस की परिभाषा है मुश्किल
” तुम ” के नाम से है वो चर्चित
सीधी साधी भोली भाली
ऐसी है मेरी दिल की कहानी

न इस में कोई राजा है
न इस में कोई रानी है
इस में एक लड़का है
और उसकी दिल की रवानी है

परिचय - रवि प्रभात

पुणे में एक आईटी कम्पनी में तकनीकी प्रमुख

Leave a Reply