अनोखा अंदाज

हर व्यक्ति के जीवन में अनेक बार ऐसा समय आता है, जिसे पूर्णतः आराम करने की अवधि यानी मध्यावधि मानी जाती है. छात्रों के जीवन में ऐसी अवधि तब आती है, जब वह पुरानी कक्षा की वार्षिक परीक्षा से मुक्त होकर परीक्षा-परिणाम के रिपोर्ट कॉर्ड की प्रतीक्षा करता है. उस बीच के समय का प्रयोग वह मनमर्जी से करता है. इस समय लोकसभा चुनाव के चलते हमारे देश के अनेक नेताओं के सामने ऐसी ही मध्यावधि आई हुई है.
हर व्यक्ति का बोलने-चालने, आराम करने-तनाव मुक्त होने का अपना-अपना अंदाज होता है.
लोकसभा चुनाव के आखिरी चरण के लिए प्रचार समाप्त होते ही बहुत समय से चुनाव-प्रचार में अत्यंत व्यस्त रहे विपक्ष के नेता जोड़-तोड़ की राजनीति में एक-दूसरे से मीटिंग में व्यस्त रहे, तो पीएम मोदी जी दो दिन के लिए केदारनाथ-बदरीनाथ की यात्रा के लिए चल पड़े. पीएम ने केदारनाथ में गुफा में ध्यान किया और फिर वहां से बदरीनाथ पूजा-अर्चना के लिए पहुंचे. यह उनका अपना अनोखा अंदाज था. ध्यान से तन-मन तरोताजा भी हो जाता है और पुनः नई ऊर्जा से काम करने के लिए तैयार हो जाता है.
यह तो बात हुई इंसानी अंदाज की. कुदरत का अंदाज कुछ अलग होता है.
बारिश के मौसम में जब काली घटा छा जाती है, तब मोरनी को रिझाने के लिए मोर उसके आसपास नाचता है. मोरनी बस घूमती और टहलती है और मोर के क्रियाकलाप का अवलोकन करती है. नाचने वाले किसी भी मोर में से किसी एक को चुनने का अधिकार उसके पास होता है. फिर उसी के साथ वह जोड़ा बनाती है, ताकि आने वाली संतान प्राकृतिक रूप से सबसे फिट, चुस्त-दुरुस्त हो. नाचने से माइंड में अलग ही हलचल होती है, इसे न्यूरॉन्स भी कहते हैं. इससे दिलो-दिमाग पर प्यार का नशा छाने लगता है. मादा जब नर की काबिलियत को लेकर हर तरीके से संतुष्ट हो जाती है तभी वह उसे चुनती है.
मानसून का मौसम मोरनी के लिए ब्रीडिंग का होता है. ब्रीडिंग के लिए मोर को बहुत ही एकांत माहौल पसंद होता है. इसमें मोर नाचता है और उसकी आंख से लिक्विड निकलता है. इसके बाद मोरनी उसे पी लेती है और मां बनने के लिए तैयार हो जाती है. यह कुदरत का अनोखा अंदाज है.

परिचय - लीला तिवानी

लेखक/रचनाकार: लीला तिवानी। शिक्षा हिंदी में एम.ए., एम.एड.। कई वर्षों से हिंदी अध्यापन के पश्चात रिटायर्ड। दिल्ली राज्य स्तर पर तथा राष्ट्रीय स्तर पर दो शोधपत्र पुरस्कृत। हिंदी-सिंधी भाषा में पुस्तकें प्रकाशित। अनेक पत्र-पत्रिकाओं में नियमित रूप से रचनाएं प्रकाशित होती रहती हैं।