विशेष सदाबहार कैलेंडर-136

                                                            सूर्य भान भान भाई के जन्मदिन पर विशेष
1.सुबह की शुद्ध हवाओं के साथ,
सूरज की दमकीली किरणों के साथ,
फूलों की भीनी-भीनी खुशबूओं के साथ,
मुबारक हो जन्मदिन आपको,
एक नए कामयाब दिन की शुरुआत के साथ.

2.सुबह के सुरीले संदेश भेजे हैं,
जन्मदिन के सजीले कॉर्ड भेजे हैं,
उठते ही हर सुबह हम आपको याद करते हैं,
इसीलिए बेशकामती 31 अनमोल वचन भेजे हैं.

3.हम आपकी यादों में रहते हैं,
स्नेह के दिए स्नेह से रोशन रखते हैं,
फीका न पड़ जाए स्नेह का रंग,
इसलिए जन्मदिन के बहाने आपको सदाबहार कैलेंडर भेजते हैं.

4.सोचा किसी अपने से बात करने का,
अपने किसी खास को याद करने का,
किया जो फैसला जन्मदिन की शुभकामनाएं देने का,
दिल ने कहा क्यों न शुरुआत आप से करने का.

5.आपकी हमारी दोस्ती सुरों का साज है,
आप जैसे दोस्त पर हमें नाज़ है,
अब चाहे कुछ भी हो जाये जिंदगी में,
दोस्ती वैसे ही रहेगी जैसे आज है.

6.सबकी खुशी को देखकर खुश होना अच्छा,
इस तरह दुःख की संकल्पना से दूर होना अच्छा,
अपने मन की बगिया भी महक जाएगी,
सबके मन के गुलशन को महकाना अच्छा.

7.आज खुशियों की कोई बधाई देगा,
निकला है चांद तो दिखाई देगा,
ऐ दोस्त दोस्ती की हमने आपसे,
आपका एक आंसू भी गिरा तो दिखाई देगा.

8.रिश्ता वह नहीं होता, जो दुनिया को दिखाया जाता है,
रिश्ता वह होता है, जो दिल से निभाया जाता है,
अपना कहने से कोईअपना नहीं होता,
अपना वह होता है, जिसे दिल से अपनाया जाता है.

9.जहां भी जाएगा, रोशनी लुटाएगा,
किसी चिराग का अपना मकां नहीं होता.

10.संबंधों का पौधा जब भी लगाओ,
जमीन को भी परख लेना,
क्योंकि सभी मिट्टी में,
रिश्तों को उपजाऊ बनाने की आदत नहीं होती.

11.सेवा का सबसे उत्तम तरीका है,
किसी के मस्तिष्क का ज्ञानवर्द्धन करना.

12.खुश रहिए हमेशा, यह दुआ है हमारी,
राह तकें बुलंदियां, सदियों तक तुम्हारी,
जन्मदिन आपका प्रेम से मनाने को,
कतार बांधे खड़ी है कायनात सारी.

13.रहो सब के दिल में ऐसे,
कि जो भी मिले तुम्हें अपना समझे,
बनाओ सबसे रिश्ता ऐसा,
कि जो भी मिले फिर से मिलने को तरसे,
दोस्त तो मिल जाएंगे लाखों
इस दुनिया में मगर,
निभाओ दोस्ती ऐसी कि लोग तुम्हें,
दोस्त नहीं अपना मुकद्दर समझें.

14.हर रिश्ते में विश्वास रहने दो,
ज़ुबां पर हर वक़्त मिठास रहने दो,
यही तो अंदाज़ है जिंदगी जीने का;
न खुद रहो उदास, न दूसरों को रहने दो.

15.भगवान ने सभी को धनुष के आकार के होंठ दिये है,
मगर इनसे शब्दों के बाण🏹ऐसे छोड़िये, 
जो सामने वाले के दिल को छू जायें, 
न कि दिल को छेद जायें.

16.अगर आप तनाव में होंगे तो, चेहरे पर पिम्पल्स पड़ेंगे,
अगर आप रोएंगे तो, चेहरे पर रिंकल्स पड़ेंगे,
इसलिए बस मुस्कुराइए तो, चेहरे पर डिम्पल्स पड़ेंगे.

17.”स्वाद” और ”विवाद”,
दोनों को छोड़ देना चाहिए,
”स्वाद” छोड़ो तो शरीर को फायदा,
”विवाद” छोड़ो तो संबंधों को फायदा.

18.रिश्तों की सिलाई 
अगर भावनाओं से हुई है,
तो टूटना मुश्किल है,
अगर स्वार्थ से हुई है,
तो टिकना मुश्किल है.

19.मुस्कुराओ कि, मुस्कुराने पर कोई कर नहीं लगता,
गुनगुनाओ कि, गुनगुनाने का कोई मोल नहीं लगता
हंसने-हंसाने को ही, जीवन का लक्ष्य बनालो
सच्चे-मीठे बोलों जैसा, प्यारा कोई बोल नहीं लगता.

20.मैं एक छोटा-सा आशियाना बनाना चाहता हूं
पर खुद से पहले उसमें खुदा को बसाना चाहता हूं.

21.हर दिन के हर पल में आपके मन में उजास हो,
दुआ हमेशा निकलती है दिल से आपके लिए,
ढेरों खुशियों का ख़ज़ाना आपके पास हो,
बार-बार आता रहे ऐसा प्यारा ख़ास दिन,
और यह दिन आपके लिए विशेष हो, ख़ास हो.

22.दोस्त शब्द नहीं जो मिट जाए,
उमर नहीं जो ढल जाए,
सफर नहीं जो कट जाए,
ये तो वो अहसास है, 
जिसके लिए जिया जाए, तो ज़िंदगी भी कम पड़ जाए.

23.मीठे बोल संक्षिप्त और बोलने में आसान हो सकते हैं, 
लेकिन उन की गूंज सचमुच अनंत होती है.

24.विशेष सदाबहार कैलेंडर आ गया लेकर बहार,
प्यार की रेसिपी खाने को हम बैठे थे तैयार.
जन्मदिन से करके start बना दिया खुशियों का chart.
learned from you a lot, living a life with good thought.

25.हंसी के नग़मे गाते रहो,
वक्त निकालकर मुस्कुराते रहो,
जन्मदिन मुबारक कबूल करो और
दिन भर खिलखिलाते रहो.

26.आपके जन्मदिन की शुभ वेला,
लगा बहारों का है मेला,
आपकी खुशियों से खुश होकर,
मौसम भी लगता अलबेला.

27.जन्मदिन आपका आता रहे,
हर वर्ष सबको हर्षाता रहे,
जीवन हो मस्ती से पूरित,
गीत खुशी के गाता रहे.

28.देने के लिए दान,
लेने के लिए ज्ञान,
और
त्यागने के लिए अभिमान सर्वश्रेष्ठ है.

29.अच्छे लोगों की एक खूबी ये भी होती है,
कि उन्हें याद नहीं रखना पड़ता,
वे याद रह जाते हैं.

30.मंज़िलें बड़ी ज़िद्दी होती हैं ,
हासिल कहां नसीब से होती हैं !
मगर वहां तूफान भी हार जाते हैं ,
जहां कश्तियां ज़िद पर होती हैं!

31.कामयाबी कभी बड़ी नहीं होती, पाने वाले हमेशा बड़े होते हैं,
दरार कभी बड़ी नहीं होती, भरने वाले हमेशा बड़े होते हैं,
इतिहास में लिखा है कि, दोस्ती कभी बड़ी नहीं होती, 
दोस्ती निभाने वाले हमेशा बड़े होते हैं.

 

इन ब्लॉग्स को भी पढ़ें-
जन्मदिन की बधाई- सूर्य भान भान भाई

https://readerblogs.navbharattimes.indiatimes.com/rasleela/%E0%A4%9C%E0%A4%A8%E0%A5%8D%E0%A4%AE%E0%A4%A6%E0%A4%BF%E0%A4%A8-%E0%A4%95%E0%A5%80-%E0%A4%AC%E0%A4%A7%E0%A4%BE%E0%A4%88-%E0%A4%B8%E0%A5%82%E0%A4%B0%E0%A5%8D%E0%A4%AF-%E0%A4%AD%E0%A4%BE%E0%A4%A8/

मस्त रहें, व्यस्त रहें

https://readerblogs.navbharattimes.indiatimes.com/rasleela/%E0%A4%B2-%E0%A4%B2-%E0%A4%95%E0%A4%B2-%E0%A4%9A%E0%A4%B0-%E0%A4%AE%E0%A4%B8-%E0%A4%A4-%E0%A4%B0%E0%A4%B9-%E0%A4%B5-%E0%A4%AF%E0%A4%B8-%E0%A4%A4-%E0%A4%B0%E0%A4%B9/

प्रस्तुत है पाठकों के और हमारे प्रयास से सुसज्जित विशेष सदाबहार कैलेंडर. कृपया अगले विशेष सदाबहार कैलेंडर के लिए आप अपने अनमोल वचन भेजें. जिन भाइयों-बहिनों ने इस सदाबहार कैलेंडर के लिए अपने सदाबहार सुविचार भेजे हैं, उनका हार्दिक धन्यवाद.

हर सुबह एक नया सदाबहार अनमोल वचन निकालने के लिए आप हमारी इस ऐप कम वेबसाइट की सहायता ले सकते हैं-

https://www.sadabaharcalendar.com/

परिचय - लीला तिवानी

लेखक/रचनाकार: लीला तिवानी। शिक्षा हिंदी में एम.ए., एम.एड.। कई वर्षों से हिंदी अध्यापन के पश्चात रिटायर्ड। दिल्ली राज्य स्तर पर तथा राष्ट्रीय स्तर पर दो शोधपत्र पुरस्कृत। हिंदी-सिंधी भाषा में पुस्तकें प्रकाशित। अनेक पत्र-पत्रिकाओं में नियमित रूप से रचनाएं प्रकाशित होती रहती हैं।