व्यंग्य – चोरूमल की परेशानी

कल मुंशी जी की चोरूमल और चोरीलाल से मुलाकात हो गई। बेचारे बड़े परेशान लग रहे थे। सूखकर कांटा हो गए थे। ऐसा लग रहा था कि मानो सालों से भूखे प्यासे हैं।
मुंशी जी ने पूछा – भई चोरी लाल क्या बात है। धंधा नहीं चल रहा है क्या?
तभी चोरूमल बीच में बोल पड़ा। यह आज के बच्चों ने तो हमारी नाक में दम कर रखा है।
अरे! तुम्हारे बच्चों ने क्या कर दिया?
अरे, मैं अपने बच्चों की बात नहीं कर रहा हूं। मैं तो इक्कीसवीं सदी के समाज के, देश के सभी बच्चों की बात कर रहा हूँ। विशेष कर युवाओं की बात कर रहा हूँ। इन बच्चों की तो रात होती ही नहीं है। दिन की तरह  पूरी-पूरी रात टी.वी, कंप्यूटर, मोबाइल पर बैठे रहते हैं। अब आप ही बताएं मुंशीजी हम कब चोरी करने जाएं। आज के इन युवाओं ने तो हमारा धंधा ही चौपट कर दिया है। और दिन में तो यह सूरज देवता हमारे दुश्मन हैं। हमने तो और कुछ काम भी नहीं सीखा कि कमाकर खा सकें। बड़ी मुश्किल में हैं। हम तो मोदी सरकार से भी गुहार नहीं लगा सकते हैं। रंगे हाथों पकड़ लिए जायेंगे। बहुत देर से नत्थू चौकीदार मुंशी जी और चोरुमल की बातें सुन रहा था। वह सामने आकर अपना दुखड़ा रोने लगा। मैं पटवारी जी के बंगले पर रात में चौकीदारी करता था। जब से उनका बेटा विदेश से पढ़कर वापस आया है। उन्होंने मुझे नौकरी से निकाल दिया है। कहते हैं कि अब तुम्हारी जरूरत नहीं है। मेरा बेटा सुबह के चार बजे तक जागता रहता है। मूवी देखता है। अपने मित्रों से बातें करता है। वह अमेरिका के बहुत अच्छे कॉलेज से पढ़कर आया है और कुछ काम धंधा नहीं करता है। पर उसने मेरे दस हजार रुपए महीने के बचवा दिए। मैं वो दस हजार अपने बेटे को दे देता हूँ। जो तुम्हें देता था। अब तुम कुछ और काम ढूंढ लो। चौकीदार की जरूरत नहीं है।
तो भई चोरूमल तुम अकेले ही इन युवाओं के सताये हुए नहीं हो हम भी तुम्हारे साथ हैं। सच कहूँ तो युवाओं से ज्यादा इन मोबाइल और कंप्यूटर की कंपनियों ने हमारा धंधा चौपट करवा दिया है। दुखी चोरूमल बोल पड़ा गाज गिरे ऐसी कंपनियों पर जिनके कारण डॉक्टरों के धंधे ने तेजी पकड़ी है। विशेषकर आँखों के डॉक्टरों की तो चांदी ही चांदी है।
नत्थू लाल बोला दुखी मत हो। एक न एक दिन सबके दिन फिरते हैं। तो हमारे भी अच्छे दिन जरूर आयेंगे तब तक भीख मांगकर गुजारा कर लेते हैं। चोरूमल बोला हाँ, आजकल यह धंधा बहुत फल-फूल रहा है। एक दिन की पांच सौ से हजार रुपए तक की कमाई हो जाती है। चलो तो देर किस बात की, सामने साईं बाबा का मंदिर है। लो हाथ पैरों में कुछ पट्टियां बांध लेते हैं।
दोनों मंदिर के बाहर बैठकर साईं बाबा के नाम पर दे दे बेटा। बाबा तेरा भला करेंगे। तेरे बच्चों का भला होगा। अपाहिज भिखारी को दे दो बाबू।
दो घंटे के बाद दोनों अपनी कमाई गिनते हैं। दोनों ने लगभग चार सौ रुपए कमा लिए थे। दोनों अपने नए धंधे से खुश थे। इस धंधे में जितना भी कमाओ टैक्स नहीं देना पड़ता है।
तो आज से……..
दे दाता के नाम तुझको अल्लाह रखे…… ।
निशा नंदिनी भारतीय 

परिचय - निशा नंदिनी भारतीय

नाम- निशा गुप्ता जन्म स्थान - रामपुर उत्तर प्रदेश जन्म तिथि - 13-9-1963 कर्म स्थान - तिनसुकिया, असम वरिष्ठ अध्यापिका - विवेकानंद केन्द्र विद्यालय तिनसुकिया, असम शिक्षण कार्य - 25 वर्षों से 1992- से विवेकानंद केंद्र कन्याकुमारी से समाज सेवा के काम में जुड़ी हैं । तिनसुकिया नगर की "नगर प्रमुख" हैं हरिसत्संग समिति की" उपाध्यक्ष" हैं सभी क्षेत्रों में सेवा कार्य कर रही हैं लेखन कार्य - सभी विधाओं में किया है । शिक्षा -" समाजशास्त्र", "दर्शन शास्त्र" व "हिन्दी साहित्य" में एम.ए तथा बी.एड । लेखन कार्य - लगभग तीस वर्षों से। प्रकाशित पुस्तकें - सात ( तीन काव्य संग्रह दो बाल उपन्यास एक लघु कथा (तीन पुस्तके प्रकाशनार्थ हेतु संलग्न ) 1- भाव गुल्म ( काव्य संग्रह ) 2- शब्दों का आईना ( काव्य संग्रह ) 3- आगाज ( काव्य संग्रह ) 4- जादूगरनी हलकारा( बाल उपन्यास ) 5- जादुई शीश महल ( बाल उपन्यास ) 6- शिशु गीत 7- पगली ( लघु कथा ) सम्मान -(मानव संसाधन मंत्रालय की ओर से ) " माननीय शिक्षा मंत्री स्मृति इरानी जी "द्वारा शिक्षा के क्षेत्र में प्रोत्साहन प्रमाण पत्र । 2- कविता सागर साहित्य समूह द्वारा कविता प्रतियोगिता में सम्मान प्रमाण पत्र । 3- कवि हम तुम साहित्य संस्था द्वारा सम्मान पत्र । 4- राष्ट्रीय स्तर के (N. G.O ) रियल हेल्प ब्यूरो की असम राज्य की चेयरमैन । 5- "नारायणी साहित्य अकादमी" की पूर्वोत्तर प्रभारी 6- असम प्रभारी-( आगमन साहित्यिक व सांस्कृतिक संस्था ) 7- आकाशवाणी दिल्ली से रचना प्रस्तुति Mail I.D - nishagupta1313@ yahoo.in GMAIL l.D nishaguptavkv@gmail.com वर्तमान पता- निशा गुप्ता श्री. एल. पी गुप्ता मजुमदार बिल्डिंग, गोधाली रोड सिरपुरिया, तिनसुकिया, असम पिन कोड -786145 09435533394