नज़र बट्टू (लघु कथा)

‘भइया, 10 किलो नींबू और 5 किलो हरी मिर्च तोल दे जल्दी से’ कमला सुबह 4.30 बजे ही थोक सब्जी मण्डी में अपनी बेटी मीना के साथ आई थी। यह उसका रोजाना का काम था। ‘यह लो, दोनों चीजें’ दुकानदार ने कहा और दोनों नींबू और मिर्च उठाकर सुबह की बस में बैठकर बाज़ार पहुंच गई जहां वे एक जगह बैठकर एक नींबू और पांच मिर्चियों की माला पिरोती थीं। फिर वे बाज़ार की हर दुकान खुलने से पहले ही उसके दरवाजे पर एक-एक माला टांगती जाती थीं ताकि दुकान को नज़र न लगे। अक्सर यह लोगों की मान्यता होती है जिसमें वे विश्वास करते हैं। चूंकि सुबह-सुबह दुकानें नहीं खुली होती थीं इसके बदले वे साप्ताहिक या द्विपाक्षिक रूप से दोपहर बाद या शाम को दुकानदारों से इकट्ठे पैसे ले लिया करती थीं।

‘अभी ग्राहकी का समय है। तुम क्यों आती हो? मीना को भेज दिया करो।’ एक दुकानदार ने कमला से कहा। मीना गजब की सुन्दर थी। नींबू मिर्च टांगते टांगते कमला की उम्र हो गयी थी और उसने दुनिया देखी थी। कमला को समझते देर न लगी। ‘ठीक है, शाम को मीना आ जायेगी’ कहकर कमला चली गई। दुकानदार का मन हिलोरें मारने लगा।

‘लाओ बाबूजी पैसे दो’ मीना ने उक्त दुकानदार से कहा। ‘कौन हो तुम भई?’ दुकानदार ने पूछा। ‘पहचाना नहीं, मैं मीना हूं, कमला की बेटी, सुबह ही तो तुमने कहा था मैं ही पैसे लेने आऊँ सो मां ने भेज दिया’ मीना ने कहा। ‘यह क्या हुलिया बना रखा है?’ दुकानदार का इशारा मीना के लम्बे बालों की दोनों चोटियों में लटके नींबू और मिर्चियों की मालाओं से था। ‘ओह अच्छा इनकी बात करते हो, ये मालाएं नज़र बट्टू हैं। अगर तुम्हारी दुकान को बुरी नज़र से बचाती हैं तो मुझे भी बुरी नज़र से बचाती हैं, ऐसा मां ने कहा था’ मीना ने जवाब दिया। दुकानदार ने शर्म के मारे मुंह नीचा कर लिया और पूरा हिसाब दे दिया।

परिचय - सुदर्शन खन्ना

वर्ष 1956 के जून माह में इन्दौर; मध्य प्रदेश में मेरा जन्म हुआ । पाकिस्तान से विस्थापित मेरे स्वर्गवासी पिता श्री कृष्ण कुमार जी खन्ना सरकारी सेवा में कार्यरत थे । मेरी माँ श्रीमती राज रानी खन्ना आज लगभग 82 वर्ष की हैं । मेरे जन्म के बाद पिताजी ने सेवा निवृत्ति लेकर अपने अनुभव पर आधरित निर्णय लेकर ‘मुद्र कला मन्दिर’ संस्थान की स्थापना की जहाँ विद्यार्थियों को हिन्दी-अंग्रेज़ी में टंकण व शाॅर्टहॅण्ड की कला सिखाई जाने लगी । 1962 में दिल्ली स्थानांतरित होने पर मैंने दिल्ली विश्वविद्यालय से वाणिज्य स्नातक की उपाधि प्राप्त की तथा पिताजी के साथ कार्य में जुड़ गया । कार्य की प्रकृति के कारण अनगिनत विद्वतजनों के सान्निध्य में बहुत कुछ सीखने को मिला । पिताजी ने कार्य में पारंगत होने के लिए कड़ाई से सिखाया जिसके लिए मैं आज भी नत-मस्तक हूँ । विद्वानों की पिताजी के साथ चर्चा होने से वैसी ही विचारधारा बनी । नवभारत टाइम्स में अनेक प्रबुद्धजनों के ब्लाॅग्स पढ़ता हूँ जिनसे प्रेरित होकर मैंने भी ‘सुदर्शन नवयुग’ नामक ब्लाॅग आरंभ कर कुछ लिखने का विचार बनाया है । आशा करता हूँ मेरे सीमित शैक्षिक ज्ञान से अभिप्रेरित रचनाएँ 'जय विजय 'के सम्माननीय लेखकों व पाठकों को पसन्द आयेंगी । Mobile No.9811332632 (Delhi) Email: mudrakala@gmail.com