पिता हि धर्म: पिता हि स्वर्ग:

धर्म सचल मूर्तिवत खड़ा निज पिता रूप से जीवन में
स्वर्ग सदृश चरणों में लगता जीवन सदा सजीवन में
यद्यपि रहता वह कठोर पर कलुश नहीं उसके मन में
जीवन अर्पण कर देता वह अजब ठान उसके प्रण में
पुत्र दिखाता आंखें तो उसकी आंखें कुछ भर आतीं
अन्तर्मन आशीष बिन्दुएं रोम रोम से झर जातीं
मुकुट कलयुगी धारण कितनों किये पुत्र सम्मुख आता
दोनो हाथ उठे बरबस ही वही पुत्र जिसको भाता
हे स्थूल रूप से जीवन देने वाले स्वयं ब्रह्म
आ जाओ दुस्तर क्षण में तुम सूक्ष्म रूप से फाड खम्भ
साया रखना सदा हमारे जीवन के कन्टक मग में
सदा तुम्हारी कीर्ति रहे मेरे शब्दों से इस जग में

सम्पूर्णा नन्द दुबे

परिचय - सम्पूर्णा नन्द दुबे

भारतदूत, सन्मार्ग, हिंदुस्तान, राश्ट्रीय सहारा (टीवी), एस वन (टीवी), जनसन्देश, पायोनियर (हिंदी) समाचार पत्रों में ज़िलास्तर पर कार्य अन्यान्य पत्र पत्रिकाओं में लेखन कृतियां सह्यद्रि समर्थ शिवा(शिवाजी का काव्यमई जीवन वृत्त)काव्य यशोधारा (राहुल और यशोधरा के बीच काव्यमय वार्तालाप) काव्य अरुणिमा(विश्व की प्रथम अपंग पर्वतारोही) काव्य सतत लेखन जारी m- 9415795000